Dec 02 2021 / 12:57 AM

‘रेडियो पर मेरे शो के माध्यम से मैं जलवायु परिवर्तन (क्लायमेट चेंज) के बारे में लोगों को संवेदनशील करुंगी’: भूमि पेडनेकर

Spread the love

युवा बॉलीवूड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर हमेशा से एक सामाजिक रुप से जागरुक नागरिक रही हैं और पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन पर जागरुकता बढ़ाने के लिए उन्होंने संपूर्ण भारत में एक पक्षसमर्थन अभियान की शुरुआत की है। क्लायमेट वॉरियर भूमि पेडनेकर द्वारा पेश किया जाने वाला एक सम्मिलित सोशल मीडिया कार्यक्रम है जो संपूर्ण भारत में अथक रुप से कार्य करने वाले पर्यावरण कार्यकर्ताओं और नागरिक समूहों द्वारा किए गए अद्भुत कार्यों को विशिष्टता से दर्शाता है। पूरे देश में तेजी से बदल रहे जलवायु परिस्थितियों के बारे में चिंताओं को आवाज़ देने के लिए वह अपने उच्च रुप से जुड़ाव वाले सोशल मीडिया का उपयोग करती हैं। अब, लोगों के एक व्यापक समूह तक पहुँचने और उन्हें जलवायु संरक्षण के विषय से जोड़ने के लिए भूमि राष्ट्रीय रेडियो पर चैट्स की एक सीरीज़ शुरु कर रही है, जो उन्हें लगता है कि एक ऐसी समस्या है जिस पर तुरंत ध्यान दिए जाने की ज़रुरत है।

भूमि का कहना है, “खुले माहौल में जलवायु परिवर्तन के बारे में यह महत्वपूर्ण बातचीत किया जाना बहुत ज़रुरी है। हम संकट में हैं और अब हम इस समस्या से अपना मुंह नहीं मोड़ सकते। पर्यावरण की रक्षा के बारे में लोगों को शिक्षित करने के लिए जो कुछ भी करना आवश्यक है, उसे हमें करना ही होगा। हमारे पास समय कम है और हम हमारी अगली पीढ़ी को कमज़ोर नहीं बना सकते। मैंने संकल्प लिया है कि जितनी जागरुकता निर्माण करना संभव होगा उसके लिए मेरे सभी संसाधनों और मेरी आवाज़ का उपयोग करुंगी।”

भूमि ने आगे जोड़ते हुए कहा, “इस यात्रा में हमें ऐसे भागीदारों की ज़रुरत हैं जो समान मानसिकता वाले हैं और इस ग्रह को बचाने के लिए जिनका ध्यान केंद्रित है। मैं राष्ट्रीय रेडियो पर मेरे अभियान की शुरुआत करते हुए गर्व महसूस कर रही हूँ क्योंकि इसकी पहुँच अविश्वसनीय है। मैं उम्मीद कर रही हूँ कि रेडियो पर मेरे शो के माध्यम से मैं लोगों को सिर पर मंडरा रही समस्या के बारे में अधिक संवेदनशील बना सकूंगी, उन साथी जलवायु योद्धाओं के साथ जुड़ सकूंगी जो इस ग्रह को बचाने के लिए अद्भुत कार्य कर रहे हैं और इसके साथ ही समान लक्ष्यों वाले लोगों को एक साथ ला सकूंगी ताकि वे सब सहयोग कर सकें और एक बड़ा परिवर्तन ला सकें।”

Chhattisgarh