हाथरस गैंगरेप: योगी सरकार की सख्त कार्रवाई, SP समेत कई पुलिसकर्मी सस्‍पेंड

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप के मामले में कार्रवाई शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी विक्रांत वीर, डीएसपी सहित कई पुलिसकर्मियों को निलंबित करने का निर्देश दिया है। हाथरस के एसपी विक्रांत वीर और डीएसपी सहित 7 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है। सीओ राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, सब इंस्पेक्टर जगवीर सिंह और हेड कॉन्सटेबल महेश पाल को भी सस्पेंड किया गया है। इसके साथ ही हाथरस केस में एसपी और डीएसपी के नार्को पॉलीग्राफ टेस्ट भी कराए जाएंगे। इतना ही नहीं साथ-साथ सभी वादी / प्रतिवादी व्यक्तियों का भी पॉलीग्राफिक और नार्को टेस्ट कराए जाएंगे।

एसपी शामली विनीत जायसवाल को हाथरस का एसपी बनाया गया है। वहीं नित्यानंद राय को शामली का प्रभारी एसपी बनाया गया है। नित्यानंद रायबरेली में एडीशनल एसपी के पद पर कार्यरत थे। बता दें शुक्रवार को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस के पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी थी। जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि अफसरों पर कोई बड़ी कार्रवाई हो सकती है।

इससे पहले उत्तर प्रदेश में कई स्थानों पर महिलाओं के साथ बढ़े अपराधों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपराधियों के खिलाफ कठोर रवैया अपनाने की बात कही। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा था कि ऐसा दंड मिलेगा, जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा कि उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार केवल रखने वालों का समुल सुनिश्चित किया गया है। उन्हें ऐसा दंड मिलेगा जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। आपकी उत्तर प्रदेश सरकार प्रत्येक माता बहन की सुरक्षा और विकास के लिए संकल्पबद्ध है।

बता दें कि 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 साल की लड़की से कथित तौर पर गैंगरेप किया गया था। लड़की के साथ बुरी तरह से मारपीट भी की गई। उसकी रीढ़ की हड्डी में चोट आई और दरिंदगी की हद करते हुए उसकी जीभ काट दी गई। जिसकी वजह से पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उसके बाद उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां बीते मंगलवार की सुबह उसकी मौत हो गई थी। उसी दिन देर रात उसका शव हाथरस पहुंचा, जहां पुलिस की निगरानी में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Share With

Chhattisgarh