बिहार चनाव: नीतीश का बोले- जंगलराज कायम करने वालों को नौकरी और विकास की बात करना मजाक

नई दिल्ली। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को वैशाली में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि ‘लालटेन युग’ खत्म हो गया है। हमारी सरकार ने राज्य में बहुत काम किए हैं। उन्होंने कहा कि बिहार को आगे ले जाने के लिए आप सभी का सहयोग चाहिए। न्याय के साथ हम विकास कर रहे हैं। हमारी सरकार किनारे पर रहने वाले अति पिछड़ा, पिछड़ा, अल्पसंख्यक, महिला को सम्मान देने के लिए प्रयासरत है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पहले की सरकार में हर घर में बिजली नहीं रहती थी, लेकिन इस दिशा में हमने सकारात्‍मक काम किया। इसके बाद हर घर में बिजली आ रही है। अब लोगों को भरपूर बिजली मिल रही है। लालटेन युग में 700 मेगावाट और अभी 600 मेगावाट की खपत है, इसलिए लालटेन युग समाप्त हो गया है।

उन्होंने कोरोना वायरस पर कहा कि यह पुरी दुनिया में फैला हुआ है, सुधार के लिए बिहार प्रयासरत है। राज्य में लोगों की कोरोना की जांच भी अधिक हो रही है और लोग स्वस्थ्य भी हो रहे हैं। फिर भी आप सचेत रहें। कोरोना काल में चुनाव हो रहा है, इसलिए हम चाहकर भी सभी जगह नहीं पहुच पा रहे हैं। आप का सहयोग चाहिए।

इससे पहले सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि 15 साल के शासन में बिहार में शिक्षा, इलाज, आवागमन का इंतजाम करने की बजाए जंगलराज कायम करने वालों का नौकरी और विकास की बात करना मजाक है।

खगड़िया के अलौली और बेगुसराय के तेघड़ा में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए उन्होंने सवाल किया कि हमारी सरकार से पहले जो सत्ता में थे, उन्होंने क्या कोई काम किया। समाज में टकराव और विवाद पैदा करके वोट लेते रहे और काम करने का मौका मिलने पर सिर्फ अपने और अपने परिवार के लिए सोचा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजद के शासनकाल में न पढ़ाई की व्यवस्था थी, न इलाज का इंतजाम था और न लोगों के आने जाने की सुविधा थी और शाम के बाद लोगों की घर से निकलने की हिम्मत नहीं होती थी। उन्होंने कहा कि पहले कितनी अपराध की घटनाएं होती थी, कितनी नरसंहार, हत्या की घटनाएं होती थी जिसके कारण डाक्टरों एवं व्यापारियों को भागना पड़ा था।

उन्होंने कहा कि जंगलराज था पहले। हमने अपराध की घटनाओं को नियंत्रित करने का काम किया है। हमने जंगलराज से बाहर निकालकर कानून का राज कायम किया। नीतीश कुमार ने लोगों से कहा कि जो पूरी स्थिति को देखे हुए हैं, वे नई पीढ़ी को पहले की स्थिति और आज की स्थिति के बारे में बताएं, उस दौर की तस्वीर खाएं।

Share With

Chhattisgarh