Nov 28 2021 / 4:40 PM

एण्डटीवी के कलाकारों ने भाईदूज पर अपने बचपन की बातों को याद किया

Spread the love

भाईदूज हिन्दुओं का एक लोकप्रिय त्योहार है, जिसमें भाई-बहनों के बीच प्यार और सुरक्षा के रिश्ते का उत्सव मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाई के माथे पर टीका लगाती हैं और एक-दूसरे की भलाई के लिये प्रार्थना करती हैं। इस अवसर पर वे एक-दूसरे को उपहार भी देते हैं, जो इस पर्व के आनंद को और भी बढ़ा देता है। एण्डटीवी के कलाकारों कामना पाठक (‘हप्पू की उलटन पलटन‘ की राजेश), नेहा पेंडसे (‘भाबीजी घर पर हैं‘ की अनिता भाबी), अक्षय म्हात्रे (‘घर एक मंदिर- कृपा अग्रसेन महाराज की‘ के वरुण) और पवन सिंह (‘और भई क्या चल रहा है?‘ के ज़फर अली मिर्जा) ने इस शुभ अवसर पर अपनी खुशी का इजहार किया और भाई दूज के दौरान मिले आकर्षक तोहफों के बारे में याद किया।

This image has an empty alt attribute; its file name is mp.jpg

कामना पाठक (‘हप्पू की उलटन पलटन‘ की राजेश) ने कहा, ‘‘मैं और मेरा भाई हर भाईदूज को खास बनाने की कोशिश में रहते हैं। भाईदूज पर मैंने अपने भाई को पहली बार जो तोहफा दिया था, उससे जुड़ी कहानी काफी दिलचस्प है। उस वक्त मेरा भाई काॅलेज में था और मैंने उसे उसका पहला सेल फोन देने का फैसला किया था। वह तोहफा पाकर मेरा भाई खुशी से झूम उठा, क्योंकि वह उसे मिली पहली महंगी चीज थी। लेकिन बदकिस्मती से उससे वह फोन टूट गया और फिर उसका दिल भी टूट गया। तब से उसे बड़ा दुख है और वह मुझसे कोई महंगा तोहफा नहीं लेता है। हर भाईदूज पर मैं यह पूछकर उससे मजाक करती हूँ कि उसे नया सेल फोन तो नहीं चाहिये।’’ पवन सिंह (‘और भई क्या चल रहा है?‘ के ज़फर अली मिर्जा) ने कहा, ‘‘जब मैं टीनेजर था, तब मुझे क्रिकेट का बड़ा शौक था, लेकिन मेरे पास अपना बैट नहीं था! खेलने के लिये मैं अपने दोस्तों से बैट उधार लिया करता था। तो भाईदूज पर मेरी बहन ने अपनी पाॅकेट मनी से मुझे मेरा पहला क्रिकेट बैट तोहफे में दिया और वह मेरी जिन्दगी के सबसे अच्छे पहलों में से एक था। अपने हाथ में बैट देखकर मेरी आँखें भर आई थीं। मेरे पास अब भी वह बैट है और मेरी सबसे अच्छी याद है जिसे मैंने अभी तक संजो कर रखा है।’’

अक्षय म्हात्रे (‘घर एक मंदिर- कृपा अग्रसेन महाराज की‘ के वरुण) ने कहा, ‘‘भाऊ बीज ऐसा त्यौहार है, जिसके लिये मैं हमेशा उत्साहित रहता हूँ। हर साल मेरी कजिन्स मुझे कुछ खूबसूरत कुर्ते या शर्ट देती हैं। तोहफे देने की यह परंपरा कई सालों से चल रही है। तो मैं हर साल यह देखने के इंतजार में रहता हूँ कि उन्होंने मेरे लिये कौन-से नये कपड़े चुने हैं। उनकी कोशिश मुझे बहुत अच्छी लगती है।’’ नेहा पेंडसे (‘भाबीजी घर पर हैं‘ की अनिता भाबी) ने कहा, ‘‘भाऊ बीज मेरे और मेरे भाई के लिये एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। हम इस त्यौहार को बड़े उत्साह और लगन से मनाते हैं। रक्षाबंधन के अलावा यह अकेला दिन है, जब हम खुलकर एक-दूसरे के लिये अपने प्यार और लगाव को जाहिर करते हैं और कभी-कभी अपनी पसंद के तोहफे भी मांग लेते हैं। मुझे अब भी मेरे भाई के चेहरे की वह चमक याद है, जब मैंने भाऊ बीज पर उसके फेवरेट ब्राण्ड का एक वाॅलेट उसे तोहफे में दिया था। वह इतना खुश हो गया था कि उसने मुझे कसकर गले लगा लिया और वह पल मुझे हमेशा याद रहेगा। मैंने गुड लक के तौर पर उस वाॅलेट में 10 रूपये रखे थे और वह नोट आज भी उसके पास है।’’

देखते रहिये ‘घर एक मंदिर- कृपा अग्रसेन महाराज की’ रात 9 बजे, ‘और भई क्या चल रहा है?’ रात 9ः30 बजे, ‘हप्पू की उलटन पलटन’ रात 10 बजे और ‘भाबीजी घर पर हैं’ रात 10ः30 बजे, प्रत्येक सोमवार से शुक्रवार, केवल एण्डटीवी पर

Chhattisgarh