Sep 29 2021 / 2:09 AM

आज दिल्ली में पीएम मोदी की रैली, ड्रोन और सीसीटीवी कैमरों से रहेगी नजर

Spread the love

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में पीएम मोदी रविवार को रामलीला मैदान में एक धन्यवाद रैली को संबोधित करेंगे। बताया जा रहा है कि उनका संबोधन सुबह 11 बजे से होगा। इस रैली को लेकर भारतीय जनता पार्टी की तरफ से दावा किया जा रहा है कि रामलीला मैदान में दो लाख लोगों की भीड़ जुट सकती है।

इस रैली के आयोजन के बारे में पार्टी की तरफ से कहा गया है कि, राष्ट्रीय राजधानी की 1734 अवैध कॉलोनियों को नियमित करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देने के लिए आयोजित है। माना जा रहा है कि इसी रैली से पीएम मोदी दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के अभियान का बिगुल फूंकेंगे।

दो दिन पहले ही खुफिया एजेंसियों ने मोदी पर आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया था, इसके बाद रामलीला मैदान में सुरक्षा इंतजाम चाक-चौबंद कर दिए गए हैं। एक वरिष्ठ पुलिस अफसर ने बताया कि दिल्ली से बाहर की कम से कम 20 पुलिस कंपनी रामलीला मैदान के आसपास तैनात रहेंगी। हर कंपनी में करीब 70-80 जवान होंगे। करीब 20 डीसीपी रैंक के अफसर और स्थानीय पुलिस के 1000 जवान भी मौजूद रहेंगे। आयोजनस्थल के आसपास इमारतों में स्नाइपर बैठाए गए हैं। इसके अलावा एंटी ड्रोन टीम और एनसजी कमांडो की विशेष टीम भी गश्त पर रहेगी।

इस कार्यक्रम के दौरान कई राज्य के मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्री पहुंचने की उम्मीद है। अफसरों का कहना है कि सुरक्षा के मद्देनजर पूरे इलाके को सैनिटाइज किया जाएगा। इसके तहत रैली स्थल के आसपास स्थानीय लोगों की आवाजाही रोकी जाएगी और दुकानें बंद करवाई जाएंगी। प्रधानमंत्री जिस रूट से आएंगे, वहां भी ट्रैफिक पुलिस के जवानों को तैनात किया जाएगा।

पिछले कई दिनों से दिल्ली में नागरिकता कानून को लेकर चल रहे बवाल के बीच धमकी भरा इनपुट मिलने के बाद पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड में हैं। रैली की सुरक्षा पर शनिवार शाम अधिकारियों की बैठक हुई। इसमें फैसला हुआ कि नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में हालिया प्रदर्शन को देखते हुए अफवाहें रोकने के लिए सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जाएगी।

दो दिन पहले ही रामलीला मैदान के पास पुरानी दिल्ली के दरियागंज में सीएए के विरोध में हिंसक प्रदर्शन हुआ था। इसके अलावा दिल्ली के बॉर्डर इलाकों में चेकिंग भी लगाई जाएगी, ताकि शरारती तत्वों को दिल्ली आने से रोका जा सके।

Chhattisgarh