Sep 22 2021 / 2:38 PM

राष्ट्रपति कोविंद ने किया महायोगी गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय का शिलान्यास

Spread the love

गोरखपुर। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद उत्तर प्रदेश की चार दिवसीय यात्रा पर हैं। अपनी यात्रा के तीसरे दिन उन्होंने गोरखपुर में आयुष विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी, महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय का उद्घाटन किया।

इस कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। इस दौरान देश के आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उनकी पत्नी सविता कोविन्‍द, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का अभिवादन किया।

राष्ट्रपति कोविंद ने अपने संबोधन में आयुष विश्वविद्यालय की विशेषताओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि शरीर ही सभी कार्यों को पूरा करने का पहला साधन होता है। इसलिए अपने शरीर को स्वस्थ रखना हमारी पहले प्राथमिकता होनी चाहिए।

कुछ दशक पहले अपराध के लिए मशहूर गोरखपुर आज शिक्षा में बदलाव की नई इबारत लिख रहा है। इन्ही बदलावों में एक नया अध्याय जोड़ने के लिए आज भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गोरखपुर पहुँचे। यह पहले राष्ट्रपति हैं जो दो बार गोरखपुर आये हैं।

तीन साल पहले जब राष्ट्रपति गोरखपुर आये थे तो उन्होंने यहां सिटी ऑफ नालेज का सपना दिखाया था जो आज साकार किया जा रहा है। महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद द्वारा 50 से अधिक शैक्षिक संस्थानों का संचालन किया जा रहा है और आज गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय के लोकार्पण के साथ आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास की सौगात भी गोरखपुर को मिली है।

यूपी के जिस पहले आयुष विश्वविद्यालय का आज शिलान्यास किया गया है उसके बनने की लागत लगभग 1000 करोड़ रुपये आएगी और प्रदेश भर के 94 आयुर्वेद, यूनानी और होम्योपैथी कालेज इसके द्वारा संचालित किए जाएंगे।

Chhattisgarh