Sep 21 2021 / 2:05 PM

लाल किले के प्राचीर से बोले पीएम मोदी- यही समय है, उठो तिरंगा लहरा दो, भारत के भाग्य को फहरा दो

Spread the love

नई दिल्ली। देश आज आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा। इस मौके पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कई बड़े ऐलान किए। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में भारत के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने से कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। साथ ही उन्होंने कहा कि आज की युवा पीढ़ी देश को बदलने का ताकत रखती है। प्रधानमंत्री ने आज लगातार आठवीं बार लाल किले की प्राचीर पर तिरंगा फहराया।

एक घंटे से ज्यादा देर तक चले भाषण में पीएम मोदी ने मौजूदा दौर को बेहतर बताया। उन्होंने एक कविता के जरिए कहा, ‘कुछ ऐसा नहीं जो कर ना सको, कुछ ऐसा नहीं जो पा ना सको, तुम उठ जाओ, तुम जुट जाओ, सामर्थ्य को अपने पहचानो, कर्तव्य को अपने सब जानो, भारत का ये अनमोल समय है, यही समय है, सही समय है’। पीएम मोदी की कविता ने देशवासियों को जोश से भर दिया।

यही समय है, सही समय है,
भारत का अनमोल समय है।

असंख्य भुजाओं की शक्ति है,
हर तरफ़ देश की भक्ति है,
तुम उठो तिरंगा लहरा दो,
भारत के भाग्य को फहरा दो
यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है।

कुछ ऐसा नहीं जो कर ना सको,
कुछ ऐसा नहीं जो पा ना सको,
तुम उठ जाओ, तुम जुट जाओ,
सामर्थ्य को अपने पहचानो,
कर्तव्य को अपने सब जानो,
भारत का ये अनमोल समय है,
यही समय है, सही समय है।

पीएम मोदी ने आगे कहा, 21वीं सदी में भारत के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने से कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। हमारी ताकत हमारी जीवटता है, हमारी ताकत हमारी एकजुटता है। हमारी प्राणशक्ति, राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम की भावना है। उन्होंने ये भी कहा कि वो मैं भविष्य़दृष्टा नहीं हैं और कर्म के फल पर विश्वास रखता हैं। पीएम ने कहा, मेरा विश्वास देश के युवाओं पर है। मेरा विश्वास देश की बहनों-बेटियों, देश के किसानों, देश के प्रोफेशनल्स पर है। ये वो पीढ़ी है जो हर लक्ष्य हासिल कर सकती है।

वहीं संबोधन के दौरान उन्होंने कई बड़े ऐलान भी किए। पीएम ने कहा, अब सरकार ने तय किया है कि देश के सभी सैनिक स्कूलों को देश की बेटियों के लिए भी खोल दिया जाएगा। उन्होंने कहा, आज मैं एक खुशी देशवासियों से साझा कर रहा हूं। मुझे लाखों बेटियों के संदेश मिलते थे कि वो भी सैनिक स्कूल में पढ़ना चाहती हैं, उनके लिए भी सैनिक स्कूलों के दरवाजे खोले जाएं। दो-ढाई साल पहले मिजोरम के सैनिक स्कूल में पहली बार बेटियों को प्रवेश देने का प्रयोग किया गया था।

पीएम मोदी ने अपने भाषण में किसानों का भी ज़िक्र किया। पीएण ने कहा कि छोटे किसान उनकी प्रथमिकता हैं। उन्होंने कहा, देश के 80 प्रतिशत से ज्यादा किसान ऐसे हैं, जिनके पास 2 हेक्टेयर से भी कम जमीन है। पहले जो देश में नीतियां बनीं, उनमें इन छोटे किसानों पर जितना ध्यान केंद्रित करना था, वो रह गया। अब इन्हीं छोटे किसानों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिए जा रहे हैं। आने वाले वर्षों में हमें देश के छोटे किसानों की सामूहिक शक्ति को और बढ़ाना होगा। उन्हें नई सुविधाएं देनी होंगी।

Chhattisgarh