Sep 29 2021 / 1:46 AM

पेगासस जासूसी मामला: ताजा लिस्ट में राहुल गांधी, प्रशांत किशोर और अश्विनी वैष्णव का नाम भी शामिल

Spread the love

नई दिल्ली। इजरायली कंपनी एनएसओ ग्रुप के ‘पेगासस स्पाइवेयर’ को लेकर हुए खुलासे के बाद देश की राजनीति गरमा गई है। दुनियाभर के 16 मीडिया संस्थानों ने सोमवार को कई नेताओं और नौकरशाह के नाम जारी किए हैं, जिनके फोन की कथित तौर पर इजरायली स्पाईवेयर पेगासस से जासूसी की गई।

इससे पहले मीडिया संस्थानों ने नजरदारी के मामले में 40 पत्रकारों के नाम जाहिर किए थे। दूसरी ओर, आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि संसद सत्र से ठीक पहले इस बारे में आ रही खबरें भारतीय लोकतंत्र को बदनाम करने की साजिश है।

मीडिया संस्थानों ने सोमवार को पेगासस के जरिए हुई नजरदारी के मामले में जिन लोगों का नाम जारी किया है, उनमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम भी है। हालांकि, खबर में बताया गया है कि उनके मोबाइल फोन की जांच नहीं हो सकी है क्योंकि राहुल लगातार फोन बदलते रहते हैं।

राहुल गांधी के अलावा उनके साथी अलंकार सवाई और सचिन राव का भी नाम है। सचिन राव कांग्रेस कार्यसमिति के मेंबर भी हैं। इसके अलावा राहुल के पांच दोस्तों का नाम भी ताजा जारी लिस्ट में है।

मीडिया की तरफ से जारी लिस्ट में चुनाव लड़ाने के लिए रणनीति बनाने में माहिर प्रशांत किशोर का भी नाम है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के भतीजे और सांसद अभिषेक बनर्जी का नाम उन लोगों में है, जिनके फोन की कथित तौर पर पेगासस से जासूसी की गई।

मीडिया संस्थानों ने दावा किया है कि पूर्व चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की भी जासूसी पेगासस से की गई। इसके अलावा मौजूदा आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव और प्रह्लाद पटेल की जासूसी भी इजरायली कंपनी के स्पाईवेयर से किए जाने का दावा मीडिया संस्थानों ने किया है।

मीडिया संस्थानों का कहना है कि आने वाले दिनों में वे कथित जासूसी की जद में आए और लोगों के नाम भी जारी करेंगे। हालांकि, केंद्र सरकार पहले ही कह चुकी है कि उसका पेगासस बनाने वाली कंपनी से कोई लेना-देना नहीं है और सरकार को बदनाम करने की साजिश के तहत ये सब बातें कही जा रही हैं।

Chhattisgarh