Main Slider

स्विट्जरलैंड ने किया कोरोना से भारत की लड़ाई को सलाम, आल्प्स पर्वत पर दर्शाया गया तिरंगा

जिनेवा। भारत समेत दुनियाभर के देशों में कोरोना वायरस का कहर जारी है। कोरोना से निपटने में भारत की तैयारियों की डब्ल्यूएचओ सहित कई देशों ने तारीफ की है। और अब इस कड़ी में स्विट्जरलैंड भी जुड़ गया है जहां स्विस आल्प्स के मैटरहॉर्न पर्वत पर रोशनी की मदद से भारतीय तिरंगे को दर्शाया गया है। इसके जरिए कोरोना महामारी से जीतने की उम्मीद और जज्बे का संदेश दिया गया है।

बता दें, दुनियाभर के कई देश भारत की इस महामारी के दौरान बनी रणनीति की तारिफ कर रहे हैं। भारत के लिए इस सम्मान की वजह यह भी है कि संकट की घड़ी में भारत ने एशिया हो या अफ्रीका, यूरोप या अमेरिका हर देश की मदद की है।

जाने-माने स्विस लाइट आर्टिस्ट गेरी हॉफस्टेटर ने 14,690 फीट के पहाड़ को तिरंगे के आकार में रोशनी दी है। भारतीय विदेश सेवा अधिकारी गुरलीन कौर ने इसकी तस्वीर अपने ट्विटर हैंडल से शेयर की है। उन्होंने लिखा, लगभग 800 मीटर ऊंचाई पर तिरंगा। हिमालय से आल्प्स की दोस्ती। शुक्रिया!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा कि पूरी दुनिया कोविड-19 से लड़ाई एकजुट है। मानवता निश्चित रूप से इस महामारी से जीतेगी।

बता दें कि इस पहाड़ पर बीते 24 मार्च से ही कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया की एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए हर दिन अलग-अलग देशों के झंडों को दर्शाती रोशनी की जा रही है।

बुधवार को इस पहाड़ पर स्विटज़रलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, इटली और स्विस क्षेत्र टिसिनो के झंडों को दर्शाती रोशनी बिखेरी गई थी।

लाइट आर्टिस्ट गेरी हॉफस्टेटर बताते हैं, प्रकाश का मतलब आशा और उम्मीद होता है। ऐसे समय में जब दुनिया कोरोना जैसे संकट का सामना कर रही है। उनके जज्बे को सलाम करने के लिए ऐसा किया गया है, ताकि ये संदेश जाए कि पूरी दुनिया इस महामारी के खिलाफ एकजुटता के साथ लड़ रही है और इस लड़ाई में हम कामयाब होंगे।

दुनियाभर में शुक्रवार को कोरोना के 86,198 नए केस सामने आए, जिसके बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर 22,48,500 से ज्यादा हो गयी है।

गौरतलब है कि स्विट्जरलैंड में अब तक 18,000 से अधिक लोग संक्रमित पाए गए हैं जबकि 430 लोगों की जान भी जा चुकी है। इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार ने स्कूल, बार, रेस्तरां और गैर जरूरी चीजों की दुकानें बंद कर दी हैं।

Share With