Sep 20 2021 / 3:44 AM

नीरज चोपड़ा ने भारत को दिलाया पहला गोल्ड, राष्ट्रपति और PM मोदी ने दी बधाई

Spread the love

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक में आज नीरज चोपड़ा ने जैवलिन थ्रो में इतिहास रच दिया है। उन्होंने फाइनल में शानदार प्रदर्शन कर गोल्ड हासिल कर लिया है। बता दें कि 23 साल बाद टोक्यो ओलंपिक 2020 में नीरज चोपड़ा ने आज जैवलिन थ्रो में इतिहास रच दिया है। उन्होंने फाइनल में शानदार प्रदर्शन कर गोल्ड हासिल कर लिया है।

टोक्यो ओलंपिक में ये भारत का पहला गोल्ड पदक दिलाया है। जिसके लिए पूरा देश उन्हें बधाई दे रहा है। उनके साथ-साथ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी गोल्ड मेडल जीतने की बधाई दी है।

नीरज चोपड़ा के स्वर्ण पदक जीतने पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बधाई दी है। उन्होंने लिखा- ‘नीरज चोपड़ा की अभूतपूर्व जीत! आपका भाला सोना बाधाओं को तोड़ता है और इतिहास रचता है। आप अपने पहले ओलंपिक में भारत को पहली बार ट्रैक और फील्ड पदक दिलाते हैं। आपका करतब हमारे युवाओं को प्रेरणा देगा। भारत उत्साहित है! हार्दिक बधाई!’

नीरज चोपड़ा के स्वर्ण पदक जीतने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी है। उन्होंने लिखा- टोक्यो में इतिहास रचा गया है! आज जो हासिल किया है उसे हमेशा याद किया जाएगा। युवा नीरज ने असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने उल्लेखनीय जुनून के साथ खेला और अद्वितीय धैर्य दिखाया। गोल्ड जीतने के लिए उन्हें बधाई।

नीरज भारत की तरफ से व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं इससे पहले निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग ओलंपिक 2008 में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक जीता था।

भारत ने पहली बार एंटवर्प ओलंपिक 2020 में एथलेटिक्स में भाग लिया था लेकिन तब से लेकर रियो 2016 तक उसका कोई एथलीट पदक नहीं जीत पाया था। दिग्गज मिल्खा सिंह और पीटी ऊषा क्रमश 1960 और 1984 में मामूली अंतर से चूक गये थे।

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) अब भी नार्मन प्रिचार्ड के पेरिस ओलंपिक 1900 में 200 मीटर और 200 मीटर बाधा दौड़ में जीते गये पदकों को भारत के नाम पर दर्ज करता है लेकिन विभिन्न शोध तथा अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ (अब विश्व एथलेटिक्स) के अनुसार उन्होंने तब ग्रेट ब्रिटेन का प्रतिनिधित्व किया था।

Chhattisgarh