Sep 20 2021 / 11:12 PM

ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, कहा- वैक्सीन सर्टिफिकेट पर लगाई फोटो तो डेथ सर्टिफिकेट पर भी लगाएं

Spread the love

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच टकराव जारी है। गुरुवार को कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर पीएम मोदी के फोटो पर ममता बनर्जी ने तंज करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने कोविड-19 वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर अपनी तस्वीर लगाई है, अब उन्हें डेथ सर्टिफिकेट पर भी अपनी तस्वीर लगानी चाहिए।

ममता बनर्जी ने नवान्न में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि बंगाल में कोरोना संक्रमण के मामले नहीं बढ़े हैं। प्रत्येक दिन 600 से 700 केस हो रहे हैं। हम बहुत ही कंट्रोल कर पाए हैं। जब चुनाव हुए थे, तो यह 33 फीसदी हो गया था। अभी 1.5 फीसदी तक ले आए हैं। स्थिति फिलहाल नियंत्रण में है, लेकिन तीसरी वेब पर नजर रखनी होगी। इसके साथ ही ममता बनर्जी ने लॉकडाउन की पाबंदियों अगस्त तक जारी रखने का ऐलान किया। इस माह तक लोकल ट्रेन भी नहीं चलेगी।

पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए ममता बनर्जी ने कहा, आपने कोविड टीके के सर्टिफिकेट पर अपनी फोटो अनिवार्य कर दी गई है। अब डेथ सर्टिफिकेट पर भी तस्वीर को लगाएं। उन्होंने कहा कि जमीन से लेकर आसमान तक सभी जगह अपना नाम रख रहे हैं। हर चीज की एक प्रतिष्ठा होती है। उसका पालन किया जाना चाहिए।

उन्होंने दावा किया कि राज्य सरकार को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन नहीं मिल रही है। इस कारण हम सभी को नहीं दे पा रहे हैं। इसके बावजूद बंगाल में स्थिति में सुधार हुई है। डिस्चार्ज रेट 98.5 फीसदी है। 3,32 करोड़ लोगों को वैक्सीन दे पाएं हैं, जबकि बंगाल में 14 करोड़ वैक्सीन की जरूरत है।

ममता बनर्जी ने कहा कि बंगाल को पर्याप्त वैक्सीन नहीं मिल रही है, हालांकि हमारे राज्य में सबसे कम बर्बादी हो रही है, लेकिन वैक्सीन नहीं पा रहे हैं। लोकल ट्रेन इसलिए नहीं चल रहे हैं, क्योंकि सभी को नहीं दे पाएं हैं। यदि ट्रेन चलेगी, तो इससे संक्रमण बढ़ेगा। सितंबर में तीसरी वेब आने की बात है। इसलिए कंट्रोल रखना होगा। हम कोशिश कर रही है कि वैक्सीनेशन बढ़ाया जाए। कोलकाता के आसपास के जिलों में वैक्सीनेशन की संख्या बढ़ाई गई है।

ममता बनर्जी ने कहा कि संवैधानिक संस्थानों को बुल्डोज किया जा रहा है। लैंड से स्काई तक केवल उनका ही नाम है। कोई डिग्ननिटी होनी चाहिए। संविधान, संघीय व्यवस्था और प्रजातांत्रिक संस्थान को बुल्डोज किया जा रहा है। प्रजातांत्रिक तरीके से काम करने वालों को बुल्डोज किया जा रहा है।

Chhattisgarh