Sep 21 2021 / 12:51 PM

कामिका एकादशी 2021: जानिये तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Spread the love

सावन मास आरंभ हो चुका है। इस माह मे पड़ने वाले सभी पर्व और त्योहार का बहुत महत्व होता है। सावन माह के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाले एकादशी को कामिका एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार सावन के कृष्ण पक्ष में कामिका एकादशी 4 अगस्त दिन बुधवार को पड़ रहा है। इस एकादशी में भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस एकादशी में तुलसी के पत्तों को इस्तेमाल किया जाता है। कामिका एकादशी से व्यक्ति के सारे पाप धूल जाते हैं और जीवन में खुशियों का आगमन होता है।

आइये जानते है तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि-

कामिका एकादशी तिथि-

इस साल कामिका एकादशी 04 अगस्त, बुधवार को है।

कामिका एकादशी का शुभ मुहूर्त-

एकादशी तिथि प्रारम्भ: 3 अगस्त दोपहर 12 बजकर 59 मिनट से
एकादशी तिथि समाप्त: 4 अगस्त को दोपहर 3 बजकर 17 मिनट तक

कामिका एकादशी का महत्‍व-

इस व्रत को करने से सभी तरह के कष्ट दूर हो जाते हैं। बिगड़े काम बन जाते हैं। सभी पापों से मुक्ति मिलती है। मोक्ष की प्राप्ति होती है। कामिका एकादशी व्रत का तीन दिन का नियम होता है। दशमी, एकादशी और द्वादशी को नियमों का पालन होता है। इन तीन दिनों के दौरान चावल नहीं खाने चाहिए। लहसुन, प्याज का सेवन वर्जित है। मांस और मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

कामिका एकादशी पूजन विधि-

प्रात: काल स्नान करें। स्वच्छ वस्त्र पहनें, व्रत का संकल्प लें। सबसे पहले गणेश जी की पूजा करें। अब भगवान विष्णु को पीले रंग का तिलक लगाएं। फूल, माला, इत्र, मौसमी फल, मिष्ठान, धूप, दीप अर्पित करें।

विष्णु सहस्त्र नाम स्त्रोत का पाठ करें। कामिका एकादशी व्रत कथा पढ़ें। अब अंत में एकादशी माता की आरती करें। भगवान विष्णु की आरती करें। उन्हें भोग लगाएं।

Chhattisgarh