Oct 26 2021 / 11:06 AM

मैं जानती हूं कि मुझमें क्लाइमेट-चेंज के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने की काबिलियत है!: भूमि पेडनेकर

Spread the love

भूमि पेडनेकर बताती हैं कि वह किस तरह एनवायरनमेंट-कन्जर्वेशन के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए अपने सोशल मीडिया का अच्छी तरह इस्तेमाल करती है। वे कहती हैं, ‘मैं जानती हूं कि मुझमें क्लाइमेट-चेंज के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने की काबिलियत है!’

युवा बॉलीवुड स्टार भूमि पेडनेकर एक नागरिक के तौर पर हमेशा से एनवायरनमेंट-कॉन्शस रही हैं, और उन्होंने क्लाइमेट-कन्जर्वेशन तथा क्लाइमेट-चेंज के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए क्लाइमेट वॉरियर नाम से एक एडवोकेसी कैंपेन की शुरुआत की है, जिसकी तारीफ़ देशभर में हो रही है। क्लाइमेट वॉरियर लोगों के साथ मिलकर चलाया जाने वाला एक सोशल मीडिया इनीशिएटिव है, और भूमि इसकी अगुवाई करती हैं ताकि देश भर के एनवायरनमेंट एक्टिविस्ट तथा सिटीजन ग्रुप द्वारा किए जाने वाले असाधारण काम को लोगों के सामने लाया जा सके। वह देश में तेजी से बदल रहे क्लाइमेट कंडीशन के बारे में आवाज़ उठाने के लिए अपने सोशल मीडिया का उपयोग करती हैं, और उनके फॉलोअर्स भी इस मुद्दे में काफी दिलचस्पी रखते हैं।

भूमि कहती हैं, “हमारे आस-पास जो कुछ भी हो रहा है, उसके लिए हम सभी ज़िम्मेदार हैं। अपने क्लाइमेट की हिफ़ाज़त करना हम सभी की ज़िम्मेदारी है। मैं समझती हूं कि एक एक्टर होने के नाते यह मेरी ख़ुशकिस्मती है, कि इस मुद्दे पर मेरे फॉलोअर्स की सोच भी बिल्कुल मेरी तरह है। मैं जानती हूं कि मुझमें क्लाइमेट-चेंज के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने की काबिलियत है। मैं ख़ुशकिस्मत हूं कि लोग मेरी बातों को सुनना चाहते हैं और क्लाइमेट-चेंज जैसे गंभीर मुद्दे पर मेरी आवाज़ बुलंद करते हैं। मुझे इस मुद्दे में दिलचस्पी रखने वाले अपने फॉलोअर्स को एकजुट करना होगा और साथ मिलकर कदम बढ़ाना होगा, ताकि हम सभी अपनी धरती की रक्षा के लिए अपना योगदान दे सकें।”

भूमि कहती हैं कि वह बचपन से ही क्लाइमेट वॉरियर रही हैं, और कई सालों से एनवायरनमेंट को नुक़सान पहुंचाए बिना जीवन जीने की कोशिश कर रही हैं।

वह बताती हैं, “मैं एक सस्टेनेबल लाइफ़ जीने की कोशिश कर रही हूं। इसकी राह आसान नहीं है और सच कहूं तो, कई बार ऐसे मौके भी आते हैं जब मैं सोचती हूं कि क्या मैं अपनी राह से भटक गई हूं। घर पर, मेरा रवैया एक स्कूल टीचर की तरह होता है, और मैं यही कोशिश करती हूं कि पानी बर्बाद न हो। हम अपने घर पर ही कचरे को अलग-अलग कर देते हैं। मेरी फैमिली तो सिंगल यूज प्लास्टिक से बिल्कुल दूर ही रहती है।”

भूमि आगे कहती हैं, “हम यही कोशिश करते हैं कि प्लास्टिक को रिसाइकिल किया जाए। हम अपने गीले कचरे से घर पर ही कम्पोस्ट और जानवरों का चारा तैयार करते हैं। अगर मुझे किसी आउटलेट से कॉफी लेनी हो, तो मैं अपने रियूजेबल मग का इस्तेमाल करती हूं। मैं अपना वॉटर बॉटल और कटलरी हमेशा साथ रखती हूं। इस तरह से मैंने अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में बदलाव लाने की कोशिश की है और मैं अपने परिवार को भी ऐसा करने के लिए धन्यवाद देती हूं।”

Chhattisgarh