Dec 02 2021 / 12:36 AM

पूर्व सीएम रमन सिंह की सुरक्षा में की गई कटौती, बीजेपी ने बताया बदले की राजनीति, टीएस सिंहदेव ने किया पलटवार, कहा- हम लोग दिल्ली से सीख रहे हैं

Spread the love

रायपुर। पूर्व सीएम रमन सिंह ने सुरक्षा में कटौती के बाद मीडिया को बयान दिया। पूर्व सीएम ने कहा कि प्रोटेक्शन रिव्यू की बैठक में अधिकारी निर्णय लेते हैं। किसे सुरक्षा देना है और किसे नहीं, यह वरिष्ठ पुलिस अधिकारी तय करते हैं। उन्होंने कहा कि जेड प्लस सुरक्षा हटाई गई है। इसका मतलब है कि अब प्रदेश सुरक्षित हो गया है। अब किसी को जेड प्लस सुरक्षा की आवश्यकता नहीं हैं।

पूर्व सीएम ने कहा कि अगर किसी को लगता है कि सुरक्षा कम करने से रमन सिंह कम दौरा करेगा तो ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा हटाने का असर उनके दौरे पर नहीं होगा। रमन सिंह ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने का मामला अलग है और यहां की परिस्थितियां अलग है।

दिल्ली से सीख रहे हैं
टीएस सिंहदेव पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह की सुरक्षा में कटौती को लेकर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बड़ा बयान दिया है। सिंहदेव ने कहा कि दिल्ली में भी केंद्र सरकार ने कुछ लोगों की सुरक्षा में कटौती की है। हम लोग दिल्ली से सीख रहे हैं। इस लिए यहां कुछ लोगों की सुरक्षा में कटौती की गई है। उन्होंने कहा है कि दिल्ली महसूस कर रही है कि देश में सुरक्षित माहौल है। सुरक्षा को लेकर देशभर में अच्छा वातावरण बन रहा है। सुरक्षा की अब उतनी जरूरत नहीं है।

बीजेपी ने लगाया बदले की राजनीति का आरोप
बता दें कि केंद्र में गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती का मुद्दा गरमाया हुआ है। कांग्रेसी लगातार इसको लेकर प्रर्दशन कर रहे हैं। मंगलवार को संसद में एसपीजी सुरक्षा संशोधन बिल भी पास हो गया। वही अब छत्तीसगढ़ में पूर्व सीएम रमन सिंह और उनके परिवार के लोगों की सुरक्षा में कटौती की गई है।

इसको लेकर प्रदेश में राजनीति गरमा गई है। बीजेपी ने इस पर ऐतराज जताया है। बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने इसे बदले की राजनीति बताया है। उन्होंने कहा है कि केंद्र में गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती की गई है उसके बदले में अब यहां रमन सिंह की सुरक्षा में कटौती की गई है। उन्होंने कहा कि हमने बदलापुर की राजनीति का जो आरोप लगाया था सरकार पर अब उसकी परिभाषा परिपूर्ण हो गया है।

इस मामले को लेकर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि नक्सली क्षेत्रों में नेताओं को लगातार दौरा करना पड़ता है इसलिए उन्हें सुरक्षा प्रदान की गई थी। उनकी सुरक्षा को कम करना आने वाले समय के लिए खतरे की घंटी है। उन्होंने कहा है कि हम मांग करेंगे कि सुरक्षा व्यवस्था यथावत रहनी चाहिए।

Chhattisgarh