Dec 02 2021 / 5:19 AM

मुख्यमंत्री 14 नवम्बर को करेंगे जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम का उद्घाटन

Spread the love

शिक्षा समागम का दो दिवसीय आयोजन 14 और 15 नवम्बर को रायपुर में

नोबल विजेता डॉ. अभिजीत बनर्जी एवं शिक्षाविद् का विभिन्न विषयों पर होगा व्याख्यान

रायपुर। शिक्षा विभाग द्वारा बाल दिवस के उपलक्ष्य में दो दिवसीय जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम का आयोजन राजधानी रायपुर में 14-15 नवम्बर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम, साइंस कॉलेज मैदान रायपुर में आयोजित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 14 नवम्बर को प्रातः 11 बजे राष्ट्रीय शिक्षा समागम का उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम करेंगे। कार्यक्रम में पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री अजय माकन, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चौबे, संसदीय सचिव द्वय श्री विकास उपाध्याय और श्री द्वारिकाधीश यादव, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष श्री कुलदीप जुनेजा, विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, महापौर रायपुर श्री एजाज ढेबर, अध्यक्ष छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम श्री शैलेष नितिन त्रिवेदी विशिष्ट अतिथि होंगे।

उद्घाटन कार्यक्रम के बाद मुख्य ऑडिटोरियम में 14 नवम्बर को दोपहर 2 बजे से आयोजित प्रथम सत्र में मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री विनोद वर्मा भविष्य के स्कूल का प्रतिदर्श विषय पर उद्बोधन देंगे। द्वितीय सत्र में गेम संस्था के सह-संस्थापक श्री मेकिन माहेश्वरी द्वारा व्यवसायिक शिक्षा और उद्यमिता, मानसिकता विषय पर तथा तृतीय सत्र में नेशनल लीडर शिक्षा और कौशल के श्री नारायणन रामास्वामी द्वारा ऑनलाईन सीखने का भविष्य विषय पर उद्बोधन दिया जाएगा। अंत में नोबल विजेता डॉ. अभिजीत बनर्जी ऑनलाईन अपना व्याख्यान देंगे।

शिक्षा समागम के द्वितीय दिवस 15 नवम्बर को प्रतिभागियों द्वारा रायपुर के उत्कृष्ट विद्यालयों का भ्रमण किया जाएगा। इसके साथ ही प्रातः 9 बजे से मुख्य ऑडिटोरियम एवं कॉन्फ्रेंस हॉल में विभिन्न राज्यों के व्यावसायिक समुदाय द्वारा प्रस्तुति, प्रथम एजूकेशन फाउंडेशन की सीईओ रूक्मणी बैनर्जी द्वारा बेहतर पुनर्निमाण-महतारी में शिक्षा से सीख विषय पर व्याख्यान दिया जाएगा। इसके पश्चात सीपीआर के अध्यक्ष यामिनी अय्यर द्वारा बड़े पैमाने पर शासन सुधार तथा प्रेमजी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ऋषिकेश बी.एस. द्वारा शिक्षक नेतृत्वकर्ता के रूप में विषय पर व्याख्यान दिया जाएगा। इसके पश्चात एनआईसी के वरिष्ठ निदेशक श्री ए.के. सोमशेखर द्वारा टेली प्रैक्टिस, एलएलएफ संस्था के संस्थापक निदेशक डॉ. धीर झिंगरन द्वारा प्रारंभिक वर्षों का सशक्तिकरण तथा एनआईएफ के कार्यपालक निदेशक श्री बिराज पटनायक द्वारा कक्षाओं में समावेशन विषय पर व्याख्यान दिया जाएगा। कार्यक्रम का समापन प्रतिवेदन प्रस्तुतिकरण एवं प्रमाण पत्र विरण से होगा।

Chhattisgarh