देश

वीर बाल दिवस कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- पूरा देश वीर साहिबजादों से प्रेरणा ले रहा है

नई दिल्ली। आज वीर बाल दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने दिल्ली के प्रगति मैदान स्थित भारत मंडपम में कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि वीर बाल दिवस के रूप में एक नया अध्याय शुरू हुआ है। वीर बाल दिवस भारतीयता की रक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने के संकल्प का प्रतीक है। ये दिन याद दिलाता है कि शौर्य की पाराकाष्ठा के सामने कम आयु मायने नहीं रखती।

पीएम मोदी ने कहा कि वीर साहिबजादों से पूरा देश प्रेरणा ले रहा है। उन्होंने कहा कि जब अन्याय और अत्याचार का घोर अंधकार था तब भी निराशा को पल भर के लिए भी हावी नहीं होने दिया। हम भारतीयों ने स्वाभिमान के साथ अत्याचारियों का सामना किया। हर आयु के हमारे पूर्वजों ने सर्वोच्च बलिदान दिया। उन्होंने अपने लिए जीने के बजाय इस मिट्टी के लिए मरने का संकल्प लिया। जब तक हमने अपनी विरासत का सम्मान नहीं किया तब तक दुनिया ने भी हमारी विरासत को भाव नहीं दिया। आज जब हम अपनी विरासत पर गर्व करना शुरू किया है तब दुनिया का नजरिया भी बदला है।

उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया भारतभूमि को अवसरों की भूमि मान रही है। आज भारत उस स्टेज पर है जहां बड़ी वैश्विक चुनौतियों के समाधान में भारत बड़ी भूमिका निभा रहा है। हमें इस मिट्टी की आनबान शान के लिए जीना है। हमें देश को बेहतर बनाने के लिए जीना है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत का युवा किसी भी क्षेत्र में, किसी भी समाज में पैदा हुआ हो, उसके सपने असीम हैं। इन सपनों को पूरा करने के लिए सरकार के पास स्पष्ट रोड मैप है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत का युवा फिट होगा तो वह अपने जीवन में, करियर में भी सुपरहिट होगा। उन्होंने कहा कि समर्थ और सशक्त युवाशक्ति के लिए देश भर में ड्रग्स के खिलाफ अभियान चलाने की जरूरत है।

बता दें कि 26 दिसंबर को हर साल वीर बाल दिवस मनाया जाता है और इस दिन सिखों के 10वें गुरु (गुरु गोबिंद सिंह) के चार बेटों- जोरावर सिंह, फतेह सिंह, अजीत सिंह और जुझार सिंह की वीरता और बलिदान को याद किया जाता है। पीएम मोदी ने 9 जनवरी 2022 को गुरु गोबिंद सिंह के प्रकाश पर्व के दिन यानी 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस मनाने की घोषणा की थी। बता दें कि गुरु गोबिंद सिंह के चारों बेटों को 19 साल की उम्र से पहले ही मुगल सेना ने मार दिया था।

Share With