Sep 17 2021 / 6:02 AM

असम: अमित शाह की मौजूदगी में हुआ कार्बी-आंगलोंग समझौते पर हस्ताक्षर

Spread the love

नई दिल्ली। असम में लंबे समय से प्रतिक्षित कार्बी आंगलोंग समझौता हो गया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। शनिवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

इस दौरान मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, असम के सीएम एचबी सरमा और कई सशस्त्र समूहों के प्रतिनिधि कार्बी आंगलोंग समझौते के लिए बैठक में शामिल हुए। इस दौरान गृह सचिव एके भल्ला ने कहा कि हमें उम्मीद है कि इससे कार्बी आंगलोंग क्षेत्र के और विकास में मदद मिलेगी।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि असम सरकार 5 वर्षों में कार्बी क्षेत्र के विकास के लिए लगभग 1000 करोड़ रुपये खर्च करेगी। मोदी सरकार की नीति है कि हम अपने कार्यकाल के दौरान ही एक समझौते में किए गए सभी वादों को पूरा करते हैं।

उन्होंने कहा कि कार्बी आंगलोंग समझौता कार्बी क्षेत्र और असम के इतिहास में सुनहरे शब्दों में लिखा जाएगा। आज 5 से अधिक संगठनों के लगभग 1000 कार्यकर्ता हथियार छोड़कर मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं। केंद्र और असम सरकार उनके पुनर्वास के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध।

अमित शाह ने कहा कि बोडोलैंड समझौता हो, ब्रू समझौता या एनएलएफटी समझौता, सरकार ने 80% से अधिक शर्तों को पूरा किया है। बोडोलैंड समझौते में लगभग सभी शर्तें पूरी की गई हैं।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं पांच संगठनों और असम के मुख्यमंत्री के प्रतिनिधियों को आश्वासन देता हूं कि हम कार्बी आंगलोंग क्षेत्र में दीर्घकालिक शांति और विकास का मार्ग प्रशस्त करते हुए, निर्धारित समय सीमा के भीतर समझौते में निर्धारित सभी शर्तों को पूरा करेंगे।

इस मौके पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि हम 300 से अधिक अत्याधुनिक हथियारों के साथ आत्मसमर्पण करने वाले 1000 आतंकवादियों के पुनर्वास के लिए काम करेंगे। उन्हें पहली बार कार्बी आंगलोंग स्वायत्त परिषद में आरक्षण दिया जाएगा।

दिल्ली में कार्बी आंगलोंग समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि इस समझौते के तहत 1,000 आतंकवादी आत्मसमर्पण करेंगे और ढेर सारे हथियार जमा किए जाएंगे। शांति बहाल होगी। यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

Chhattisgarh