चैत्र नवरात्रि के दौरान करें माता के बीज मंत्र का जाप और जानिए लाभ

Apr 11, 2024 - 21:00
 0  72
चैत्र नवरात्रि के दौरान करें माता के बीज मंत्र का जाप और जानिए लाभ

9 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ हो चुका है। नवरात्रि के इन नौ दिनों में मां भगवती के 9 दिव्य स्वरूपों की उपासना विधि-विधान से की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, चैत्र नवरात्रि के दौरान माता दुर्गा की उपासना करने से सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है। साथ ही सभी प्रकार के दोष और समस्याएं दूर हो जाती है। इसके साथ इन नौ दिनों में माता दुर्गा के नौ दिव्य स्वरूपों के बीज मंत्रों के जाप को भी बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। मान्यता यह भी है कि इन मंत्रों का जाप करने से मां जल्दी प्रसन्न होती हैं और साधक की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं।

नवरात्रि के दौरान करें इन बीज मंत्रों का जाप

मां शैलपुत्री बीज मंत्र- ह्रीं शिवायै नम:

मां ब्रह्मचारिणी बीज मंत्र- ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:

मां चंद्रघंटा बीज मंत्र- ऐं श्रीं शक्तयै नम:

मां कूष्मांडा बीज मंत्र- ऐं ह्री देव्यै नम:

मां स्कंदमाता बीज मंत्र- ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:

मां कात्यायनी बीज मंत्र- क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:

मां कालरात्रि बीज मंत्र- क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:

मां महागौरी बीज मंत्र- श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:

मां सिद्धिदात्री बीज मंत्र- ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:

नवदुर्गा बीज मंत्रों का लाभ
शास्त्रों में बताया गया है कि मां दुर्गा के इन बीज मंत्रों का जाप करने से सभी सिद्धियों की प्राप्ति होती है और जीवन में आ रही है कई प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती है। इसके साथ पूजा के दौरान इन मंत्रों का जाप करने से बल, बुद्धि, विद्या आदि का आशीर्वाद प्राप्त होता है। नवदुर्गा को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रों को बहुत ही प्रभावशाली माना गया है। इनका जाप सुबह और शाम करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है। इस बात का ध्यान रखें कि जाप करने से पहले पूजा स्थल पर दीपक जलाकर संकल्प लें और फिर जाप शुरू करें। मान्यता यह भी है कि इन मंत्रों का जाप कम से कम 108 बार करने से पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow