Sep 29 2021 / 2:15 AM

एण्डटीवी के ‘और भई क्या चल रहा है?‘ में सौ प्रतिशत शुद्ध काॅमेडी

Spread the love

शो ने पूरा किया 100 एपिसोड का सफर

एण्डटीवी का ‘और भई क्या चल रहा है?‘ लखनऊ की पृष्ठभूमि पर आधारित शो है। इस शो ने अपनी सिचुएशनल काॅमेडी से दर्शकों के दिलों में खास जगह बनायी है। इस शो में दो बिलकुल अलग तहजीब वाले परिवार एक ही छत के नीचे रहने को मजबूर हैं। इनके बीच छोटे शहरों की वही रोज की चिक-चिक और दोनों की पत्नियों के बीच मुकाबला चलता रहता है। इस शो में मिश्रा और मिर्जा परिवार के जरिये वर्षों पुरानी गंगा-जमुनी तहजीब को बड़ी ही खूबसूरती से पेश किया गया है। ये दोनों परिवार एक पुरानी नवाबी हवेली में साथ-साथ रहते हंै। शो के 100 एपिसोड पूरे होने पर प्रमुख कलाकारों ने पुरानी यादों को ताजा किया। उन्होंने अपने सबसे अच्छे पलों, सबसे अच्छे डायलाॅग्स, सीन या किरदारों के बारे में बात की! और जानने के लिये आगे पढि़ये।

कुछ किरदार इतने बेहतरीन होते हैं कि अपने तकियाकलाम या कमाल कर दिखाने वाले लकी चार्म के रूप में जाने जाते हैं। हमारी अपनी शांति मिश्रा भी कुछ ऐसा ही कमाल करती हैं, जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता, है ना? एण्डटीवी के ‘और भई क्या चल रहा है?‘ में शांति मिश्रा का किरदार निभा रहीं फरहाना फातिमा कहती हैं, ‘‘हर किरदार की अपनी खासियत होती है, जो उसे अनोखा बनाती है। ऐसी ही एक खासियत शांति की भी है, जो उसकी पर्सनैलिटी को बखूबी दर्शाती है। और वह है उसकी वल्र्ड फेमस बिंदी! जब भी उसे गुुस्सा आता है, तो वह अपनी छोटी बिंदी की जगह बड़ी बिंदी लगा लेती है। और उनके गुस्से को झेलना पड़ता है बेचारा मिश्रा जी को। मुझे यह बड़ा ही मजेदार लगा कि उसकी बिंदी उसके गुस्से का प्रतीक है। यह वाकई कमाल की बात है और अलग हटकर है!‘‘

हर एक्टर के पास एक ना एक ऐसा सीन या एक एपिसोड होता है, जिसकी शूटिंग उनके लिये मजेदार होती है। इस बारे में एण्डटीवी के ‘और भई क्या चल रहा है?‘ में सकीना मिर्जा का किरदार निभा रहीं, अकांशा शर्मा कहती हैं, ‘‘मेरे दो शौक हैं, डांसिंग और एक्टिंग। जब ये दोनों एक साथ मिलते हैं, तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं होता। हमारा एक एपिसोड शांति और सकीना के बीच डांस काॅम्पीटिशन को लेकर था। असल जिंदगी में हम दोनों ही डांसर्स हैं और हम दोनों को ही घंटों कोरियोग्राफी और प्रैक्टिस सेशन में बड़ा मजा आया। वह एपिसोड चमक-दमक और ग्लैमर से भरपूर था। आज भी वह मेरे पसंदीदा एपिसोड्स में से एक है।‘‘

अब जबकि सकीना ने अपने फेवरेट एपिसोड के बारे में बताया है तो फिर उसके आॅन-स्क्रीन पति जफर अली मिर्जा (पवन सिंह अभिनीत) पीछे कैसे रह जाते? तो उन्होंने अपने फेवरेट डायलाॅग्स की लिस्ट बना ली। कुछ लोग जफर अली मिर्जा जैसे होते हैं जो चुप ही नहीं रह सकते क्योंकि बोलना तो उनकी सबसे बड़ी कला है। और डायलाॅग के बिना बात ही नहीं बनती!

पवन सिंह सिंह ऊर्फ जफर अली मिर्जा कहते हैं, ‘‘इस शो की सबसे अच्छी बात है कि इसके डायलाॅग हाजिरजवाब और सही टाइमिंग वाले होते हैं। हर किरदार उन्हें इतने रोचक अंदाज में बोलता है कि वो जोक्स और भी मजेदार बन जाते हैं। एक बार क्या होता है कि मिश्रा अपनी बीवी के लिये एक बड़ा गिफ्ट देख रहा होता है और वह कहता है, ‘‘शांति के लिये एक बड़ा-सा गिफ्ट चाहिये।‘‘ वह यह कहते हुए उस गिफ्ट को लेने का आइडिया छोड़ देता है कि यह तो बहुत ही छोटा है। उस समय मिर्जा का जो जवाब था, उसके बारे में सोचकर रिहर्सल के दौरान भी मेरी हंसी छूट रही थी। मिर्जा ने तपाक से कहा था, ‘‘एक काम करिये, सोने की अंगूठी छोड़ दीजिये, मोटरसाइकिल का बड़ा टायर ही गिफ्ट दे दीजिये।‘‘

यूं तो हर किरदार ही अहम होता है लेकिन कुछ छोटी भूमिकाएं भी प्रभावशाली होती हैं। हाऊस हेल्प पारो के साथ भी कुछ ऐसा ही है। रमेश प्रसाद मिश्रा की भूमिका निभा रहे, अंबरीश बाॅबी कहते हैं, ‘‘मुझे पारो का किरदार काफी दिलचस्प और मनोरंजक लगा। भले ही वह मुख्य किरदार नहीं है, लेकिन वह कमाल की है। पारो हवेली में झगड़ा करवाने वालों में से है। बात करने का उसका अपना एक अलग अंदाज है और अपनी मसालेदार गाॅसिप के लिये भी मशहूर है। पारो एक जिंदादिल और खुशमिजाज लड़की है। मुझे पहले दिन से ही उसका किरदार बहुत पसंद है।‘‘

आखिर में, बिट्टू कपूर का किरदार निभा रहे अनु अवस्थी ने 100 एपिसोड पूरे होने के मौके पर अब तक के सबसे मजेदार सीन के बारे में बात की। वे कहते हैं, ‘‘इतने कम समय में ही इस शो में हमने कई मजेदार घटनायें देखीं। हर सीन जोरदार ठहाके लगाने वाले होते हैं। वैसे तो मेरे ज्यादातर सीन पप्पू (संदीप यादव) के साथ होते हैं, लेकिन हाल में मशहूर काॅमेडियन राजू श्रीवास्तव मेरे बचपन के दोस्त बनकर शो में आये। उनका होना बिट्टू के लिये कभी शुभ नहीं होता है और एक बार फिर उसके लिये मुसीबत खड़ी हो गयी है। राजू जी के साथ उस एपिसोड की शूटिंग करने में मुझे खासकर काफी मजा आया। और जब दो काॅमेडियन साथ हों तो धमाल होना तय है, आॅन-स्क्रीन भी और आॅफ-स्क्रीन भी!

‘‘ एंटरटेनमेन्ट और ठहाकों के अपने डेली डोज के लिये देखते रहिये, एण्डटीवी का ‘और भई क्या चल रहा है?‘ रात 9.30 बजे, हर सोमवार से शुक्रवार!

Chhattisgarh