कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे उज्जैन से गिरफ्तार

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 09-07-2020 / 11:43 AM
  • Update Date: 09-07-2020 / 11:43 AM

उज्जैन। उत्तर प्रदेश का कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस ने मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया है। विकास ने पिछले सप्ताह खुद को पकड़ने पहुंची पुलिस पर अंधाधुंध गोलीबारी कर 8 पुलिस कर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था।

महाकाल मंदिर के पुजारी ने बताया कि मंदिर में सावन में रोजाना इन दिनों करीब 7-8 लोग आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि विकास दुबे गिरफ्त में आने के बाद किसी भी तरह की बदमाशी नहीं की। उसने भागने की भी कोशिश नहीं की। विकास दुबे को जिन कर्मचारियों ने पकडा है उनके पास कोई हथियार नहीं था।

पुजारी की सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। जब पुलिस विकास दुबे को लेकर जा रही थी तब भी वह चिल्ला रहा था कि मैं हूं विकास दुबे कानपुर वाला। वीडियो में दिख रहा है कि जब विकास दुबे यह चिल्ला रहा था, तब वहां मौजूद एक पुलिस वाले ने एक थप्पड़ भी जड़ दिया था।

विकास के इस प्रकार उज्जैन जाकर भीड़ भाड़ में खुद को विकास दुबे बताने से साफ पता चलता है कि यूपी पुलिस के ताबड़तोड़ एन्काउंटर के बाद उसे भी अपने मारे जाने का डर सता रहा था। विकास दुबे भीड़ के बीच में खुद को सुरक्षित मान रहा था।

गौरतलब है कि विकास दुबे की तलाश में कई राज्यों की पुलिस लगी हुई थी। विकास दुबे उस एनकाउंटर का मुख्य आरोपी है, जिसमें यूपी के 8 पुलिसकर्मी मारे गए थे। यूपी में हुई इस घटना के बाद से विकास दुबे फरार था। तभी से उसकी तलाश थी। विकास दुबे के एमपी कनेक्शन को लेकर जांच जारी थी। मध्यप्रदेश पुलिस इसे लेकर हाईअलर्ट पर थी।

ग्वालियर-चंबल के 15 बदमाशों के विकास दुबे से कनेक्शन का सुराग भी पुलिस के हाथों से लग चुके थे, जिसके बाद एसटीएफ ने अपनी जांच तेज कर दी थी। विकास दुबे के पकड़े जाने के बाद कई सवालों के जवाब मिल सकेंगे। लॉकडाउन की अवधि में यूपी से उज्जैन तक चोरी-छिपे पहुंचना आसान नहीं था। लेकिन वह पुलिस को चकमा देते हुए पहुंच गया। उसके रिश्तेदारों ने पहले ही पुलिस को मना कर दिया था, कि उन्होंने विकास दुबे को पनाह दिया है।

इससे पहले यूपी पुलिस ने यूपी पुलिस ने विकास दुबे के एक और साथी को मार गिराया। इटावा हाईवे पर बदमाशों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में गोली लगने से बदमाश की मौत हो गई। उसके ऊपर 50 हजार का इनाम था। वहीं तीन बदमाश भागने में सफल रहे। वहीं दूसरी तरफ विकास दुबे का करीबी प्रभात मिश्रा कानपुर के पास पनकी में स्टेप मुठभेड़ में मारा गया।

कल प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद में दो साथियों के साथ गिरफ्तार किया गया था। यूपी पुलिस ने अदालत से ट्रांजिट रिमांड की मांग की थी तथा ट्रांजिट रिमांड के दौरान पूछताछ के लिए एसटीएफ उसे कानपुर ले जा रही थी। बताया जाता है कि पनकी के पास प्रभात मिश्रा ने एक दरोगा की पिस्टल छीनकर भागने का प्रयास कर रहा था तभी पुलिस मुठभेड़ में पुलिस ने उसे मार गिराया।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF