मंदिर खोलने को लेकर उद्धव ठाकरे का राज्यपाल को जवाब- आपसे हिंदुत्व के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 13-10-2020 / 5:35 PM
  • Update Date: 13-10-2020 / 5:35 PM

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद से बंद पूजा स्थलों को फिर से खोलने को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बीच तीखी बहस छिड़ गई है। राज्यपाल के बाद व्यंग्य से भरे पत्र में सवाल किया कि क्या वह धर्मनिरपेक्ष हो गए हैं, जिसपर उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें किसी से भी हिंदुत्व प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है।

धार्मिक स्थल खोले जाने को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी है। राज्यपाल ने सीएम उद्धव से धार्मिक स्थल खोलने को कहा है। राज्यपाल कोश्यारी ने पत्र में उद्धव से कहा है कि आप हिंदुत्व के बड़े समर्थक रहे हैं। क्या आप अचानक सेकुलर बन गए।

राज्यपाल ने ये भी सवाल उठाया कि सरकार ने पब, बार और बीच खोलने की तो इजाजत दी, लेकिन भगवान आज भी लॉकडाउन में हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को यह भी याद दिलाया कि अन्य शहरों ने जून में ऐसी जगहों को फिर से खोल दिया था और कोविड-19 मामलों में वृद्धि की कोई रिपोर्ट नहीं थी।

सीएम उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को जवाब दिया है। उद्धव ने जवाबी चिट्ठी लिखकर कहा है कि आपसे हिंदुत्व के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। सीएम उद्ध ने इस बात का भी जिक्र किया है कि धार्मिक स्थल खोलने पर सरकार विचार कर रही है।

उद्धव ने सवाल उछाया है कि क्या धार्मिक स्थल खोलना हिंदुत्व और नहीं खोलना सेक्युलर की निशानी है। अभिनेता कंगना रनौत का नाम लिए बिना ठाकरे ने कहा कि मुंबई पीओके को मुस्कुराहट के साथ बुलाने वाले लोगों को आमंत्रित करना, मेरी हिंदुत्व की परिभाषा में नहीं आता।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF