13 साल पुराने केस में CBI कोर्ट ने दो पुलिसकर्मियों को दी मौत की सजा

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 27-07-2018 / 9:17 AM
  • Update Date: 27-07-2018 / 9:17 AM

तिरुवनंतपुरम। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत ने बुधवार को 13 साल पहले हिरासत में दी गई यातना व हत्या के मामले में दो पुलिसकर्मियों को मौत की सजा और तीन अन्य को तीन साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई। मौत की सजा पाने वालों में कांस्टेबल के.जीतुकुमार व एस.वी.श्रीकुमार शामिल हैं। इन्होंने उदयकुमार को हिरासत में लिया था, जिसके बाद में हिरासत में मौत हो गई।

पांच लोग दोषी करार
अदालत ने मामले में साजिश रचने व साक्ष्यों को नष्ट करने के दोषी के तौर तत्कालीन उप निरीक्षक अजीत कुमार, सर्किल इंस्पेक्टर ई.के.साबू व तत्कालीन पुलिस सहायक आयुक्त के.हरिदास को सजा दी है। अदालत ने मंगलवार को सितंबर 2005 में फोर्ट पुलिस थाने में 26 साल के व्यक्ति की हिरासत में मौत के मामले में इन पांच लोगों को दोषी करार दिया।

यह है मामला
अदालत ने सभी आरोपियों पर पांच हजार रुपण्‍ का जुर्माना भी लगाया। अभियोजन पक्ष के अनुसार, उदयकुमार को चोरी के एक मामले के संबंध में हिरासत में लिया गया था और पुलिस द्वारा प्रताड़ित करने के बाद उसकी एक पुलिस थाने में मौत हो गई थी।

उदयकुमार को हिरासत में लेने वाले जीतकुमार और श्रीकुमार को हत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया गया जबकि तीन अन्यों को साजिश रचने तथा सबूतों को नष्ट करने का दोषी ठहराया गया। इस मामले को लेकर राज्यभर में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे। उदयकुमार की मां प्रभावति की याचिका पर उच्च न्यायालय के फैसले के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF