आंधी-तूफान से ताजमहल को हुआ बड़ा नुकसान, गिरी मिनारें

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 14-04-2018 / 8:09 AM
  • Update Date: 14-04-2018 / 8:09 AM

आगरा। देश के कई हिस्‍सों में बदले मौसम ने कई लोगों की जान ले ली। इस मौसम में कहीं पर भारी बारिश पड़ रही है तो कहीं पर ओले गिर रहे है। पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी से मौसम ठंडा हो गया है। वहीं मैदानी इलाकों में भारी बारिश के कारण काफी नुकसान हुआ है।

उत्तर प्रदेश में लगातार आंधी-तूफान चल रहा है। इसी के कारण ताजमहल को भी नुक्सान पहुंचा है। कल आए आंधी तूफान की वजह से ताजमहल की मिनारें गिर गई। ताजमहल के एंट्री गेट के एक पिलर का हिस्सा गिर गया।

उत्तर प्रदेश में चौबीस साल का रिकाॅर्ड तोड़ने वाले तूफान के आगे मुगलकालीन ताजमहल भी कांप उठा। रॉयल गेट के ऊपर लगा करीब 12 फीट ऊंचा पिलर टूटकर गिर पड़ा। दक्षिणी गेट के पर लगा आठ फीट ऊंचा पिलर भी टूट गया। सरहिदी बेगम (सहेली बुर्ज) के मकबरे की छत का गुलदस्ता नीचे आ गया। परिसर में कई पेड़ धराशायी हो गए हैं।

विश्र्वदाय स्मारक ताजमहल को बड़ा नुकसान पहुंचा है। फोरकोर्ट में लगा नीम का पेड़ लैंप पर टूटकर गिर गया। इसके अलावा उद्यान में भी कई पेड़ टूटे हैं। रॉयल गेट के ऊपर उत्तरी व दक्षिणी ओर 11-11 छोटी छतरियां बनी हुई हैं।

छतरियों के दोनों ओर करीब 12 फीट ऊंचे जिगजैग डिजाइन (शैवरोन डिजाइन) के पिलर हैं। इनमें सफेद व काले संगमरमर के पत्थरों का इस्तेमाल हुआ है, जिससे भ्रम का अहसास होता है। आंधी में रॉयल गेट का उत्तरी-पश्चिमी जिगजैग पिलर टूटकर नीचे वीडियो प्लेटफार्म पर आ गिरा।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF