चौथी तिमाही में इस बैंक को हुआ करोड़ों का घाटा

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 16-05-2018 / 9:58 PM
  • Update Date: 16-05-2018 / 9:58 PM

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के सिंडिकेट बैंक को बीते वित्त वर्ष की मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में 2,195.12 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है। ऊंचे डूबे कर्ज की वजह से बैंक को अधिक प्रावधान करना पड़ा जिससे बैंक का नुकसान बढ़ा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में बैंक को 103.84 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ था।

दिसंबर तिमाही में बैंक को 869.77 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ था। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा है कि मार्च तिमाही में बैंक का डूबे कर्ज के लिए प्रावधान करीब तीन गुना यानी 3,544.68 करोड़ रुपए हो गया, जो एक साल पहले समान तिमाही में 1,192.54 करोड़ रुपए था।

तिमाही के दौरान बैंक की आमदनी घटकर 6,046 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 6,913.09 करोड़ रुपए रही थी। पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक को 3,222.84 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक ने 358.95 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। वित्त वर्ष के दौरान बैंक की आय घटकर 24,581.85 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 26,461.18 करोड़ रुपए थी।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF