धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से निराश हुए सुब्रमण्यम स्वामी, बोले – अब बढ़ेंगे HIV केस

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 07-09-2018 / 12:40 AM
  • Update Date: 07-09-2018 / 12:40 AM

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा कि समलैंगिक यौन संबंध अपराध नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को अतार्किक और मनमानी बताते हुए कहा है कि समलैंगिकता अपराध की क्षेणी में नहीं है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस मामले को लेकर कहा – पार्टी का मानना है कि समलैंगिकता अप्राकृतिक है और इसे अपराध की श्रेणी से बाहर नहीं किया जा सकता है।

बाबा रामदेव ने कहा – समलैंगिकता सबसे बड़ी बिमारी है। यह पारिवारिक व्यवस्था के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि वे उनकी समलैंगिकता को सही कर सकते हैं। वहीं विवादित बयानों के लिए जाने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी समलैंगिकता पर अपने विचार व्यक्त किया था। स्वामी ने कहा था “समलैंगिकता राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है।

स्वामी ने कहा, कोर्ट का ये फैसला अंतिम नहीं है। इस फैसले को सात जजों की बैंच द्वारा पलटा जा सकता है। सुब्रमण्यम स्वामी ने इसे जेनेटिक डिसऑर्डर से जुड़ा मामला बताया। उन्होंने कहा, इसके बाद एचआईवी के मामले बढ़ेंगे।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF