पापा करुणानिधि की याद में बेटे स्टालिन ने लिखा भावुक खत ,कहा- क्या मैं आपको एक बार अप्पा कह लूं?

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 08-08-2018 / 9:33 PM
  • Update Date: 08-08-2018 / 9:33 PM

चेन्नई। डीएमके प्रमुख और पूर्व सीएम एम करुणानिधि का मंगलवार शाम निधन हो गया। उन्‍होंने कावेरी अस्पताल में अंतिम सांस ली। करुणानिधि का दुनिया से जाना राजनीति के बड़े अध्याय के समाप्त होने जैसा है, जिसकी पूर्ति कोई नहीं कर सकता है। पिता करुणानिधि के निधन पर बेटे एम. के. स्टालिन ने एक दिवंगत पिता की याद में एक भावुक पत्र लिखा।

पत्र में स्टालिन ने कहा – आपको अप्पा-अप्पा कहकर बुलाने की बजाए मैंने कई बार आपको थलाइवरय, थलाइवरय (मेरे नेता) कहकर बुलाया है। थलाइवरय क्या मैं आपको एक बार अप्पा कहकर पुकार सकता हूं। स्टालिन ने कहा, तीस साल पहले, आपने कहा था कि आपकी कब्र पर ये शब्द अंकित होने चाहिए… वह व्यक्ति जिसने आराम किए बिना काम किया था, यहां आराम कर रहा है। क्या आप तमिल समुदाय के लिए कड़ी मेहनत करने की संतुष्टि के साथ विदा हुए हैं।

खत के आखिर में स्टालिन ने करुणा को एक आखिरी बार ‘पिता’ कहने की इजाजत मांगी, तो जिसने भी इसे पढ़ा उसकी आंखें नम हो गईं। उन्होंने लिखा- करोड़ों उडनपिरपुक्कलों (डीएमके काडर) की ओर से मैं आपसे अपील करता हूं कि बस एक बार ‘उडनपिरप्पे’ बोल दीजिए और हम एक सदी तक काम करते रहेंगे। मैं आपको अप्पा कहने की जगह अपने जीवन में ज्यादातर समय ‘थलाइवर’ (नेता) कहता रहा। क्या कम से कम अब मैं आपको अप्पा कह सकता हूं?

अपने पिता को हमेशा अपना राजनैतिक गुरु समझने वाले स्टालिन उन्हे पिता की जगह थलाइवर कहते थे , शायद ये कसक उन्हे हद से ज्यादा सता रही है। स्टालिन को अब पिता की आखिरी यात्रा को पूरी करनी है पर चिरनिद्रा में जा चुके करुणानिधि अपने बेटे की बिनती सुन रहे होंगे और एक पिता ‘अप्पा’ की तरह आशीर्वाद दे रहे होंगे।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF