ईस्टर के मौके पर सिलसिलेवार बम धमाकों से दहला श्रीलंका, 215 लोगों की मौत, 500 घायल

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 22-04-2019 / 9:16 AM
  • Update Date: 22-04-2019 / 9:16 AM

कोलंबो। श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के दिन हुए श्रंखलाबद्ध बम विस्फोटों में तीन भारतीयों सहित कम से कम 215 लोगों की मौत हो गई और 500 अन्य घायल हो गए हैं। इनमें से अधिकांश विस्फोट राजधानी कोलंबो में हुए हैं। इस द्वीपीय देश में गृहयुद्ध समाप्त होने के बाद यह सबसे बड़ा खूनखराबा वाला दिन रहा। श्रीलंका ने इन आतंकवादी हमलों के मद्देनजर देशव्यापी कर्फ्यू घोषित कर दिया है और सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिससे फर्जी खबरों पर रोक लगाई जा सके। भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कोलंबो से प्राप्त आधिकारिक रपटों के हवाले से कहा है कि मृतकों में तीन भारतीय-लोकाशिनी, नारायण चंद्रशेखर और रमेश भी शामिल हैं।

अधिकारियों ने मामले में सात संदिग्धों की गिरफ्तारी की बात कही है, लेकिन इस संबंध में अधिक जानकारी देने से इंकार कर दिया। पुलिस प्रवक्ता रुवान गुणसेकरा ने कहा कि नेशनल अस्पताल में 66 शव पहुंचे हैं और यहां 260 घायलों का इलाज हो रहा है। इसी तरह नेगोंबो अस्पताल में 104 शव पहुंचे हैं और वहां करीब 100 घायलों का उपचार हो रहा है। नेशनल अस्पताल के निदेशक अनिल जासिघे ने कहा कि मृतकों में 11 से ज्यादा विदेशी नागरिक हैं, जिनमें पोलैंड, डेनमार्क, चीन, जापान, पाकिस्तान, अमेरिका, भारत, मोरक्को और बांग्लादेश के लोग शामिल हैं।

बम विस्फोट की शुरुआत सुबह 8.30 बजे कोलंबो स्थित कोच्चिकाडे के सेंट एंथनी चर्च से शुरू हुई, जहां सैकड़ों लोग ईस्टर की प्रार्थना सभा के लिए जमा हुए थे। इसके बाद पांच और शक्तिशाली विस्फोट हुए, जिनके जरिए तीन आलीशान होटलों और यहां से 30 किलोमीटर दूर नेगोम्बो के सेंट सेबेस्तियन चर्च, और कोलंबो से पूर्व 250 किलोमीटर दूर बट्टीकलोवा में स्थित जियॉन चर्च को निशाना बनया गया। अधिकारी अभी स्थिति को नियंत्रण में करने के बारे में सोच ही रहे थे कि अपराह्न् में कोलंबो में दहिवाला चिड़ियाघर से लगे एक रेस्तरां के पास एक और विस्फोट हो गया, जिसमें दो लोग मारे गए। इसके बाद कोलंबो के पड़ोसी देमाटोगोडा में हुए एक अन्य विस्फोट में अतिरिक्त तीन लोग मारे गए।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF