श्री भूपेश बघेल ने असम की टूरिज्म इंडस्ट्री को दिया छत्तीसगढ में निवेश का न्योता

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 18-02-2021 / 1:51 PM
  • Update Date: 18-02-2021 / 1:51 PM

टूरिज्म इंडस्ट्री के पदाधिकारियों और सदस्यों के साथ मुख्यमंत्री ने की बी-टू-बी परिचर्चा

गुवाहाटी में छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड ने रखी थी मीटिंग

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने असम के टूर ऑपरेटर्स, ट्रैवल एजेंट्स और होटल-उद्यमियों को छत्तीसगढ़ में निवेश के लिए आमंत्रित किया है। आज असम की राजधानी गुवाहाटी में छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड द्वारा आयोजित बी-टू-बी मीटिंग में यह बातचीत हुई।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने असम टूरिज्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को छत्तीसगढ़ के के पर्यटन स्थलों की विशेषताओं, इनके प्रचार-प्रसार के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों और पर्यटन-नीति के बारे में जानकारी दी।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बैठक में आमंत्रित असम राज्य के होटल और ट्रैवल एजेंसी से जुड़े पदाधिकारियों और सदस्यों को छत्तीसगढ़ में पर्यटन की असीम संभावनाओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में पर्यटन के प्रचार-प्रसार और विकास के लिए निवेश करने वालों को राज्य सरकार द्वारा हर जरूरी मदद दी जाएगी।

उल्लेखनीय है कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नयी पर्यटन नीति में टूर ऑपरेटरों, ट्रैवल एजेंसियों, उद्यमियों और होटल इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के लिए अनेक आकर्षक प्रावधान किए गए हैं। स्थानीय व्यवसायियों के साथ-साथ अन्य राज्यों के व्यवसायियों को भी यहां निवेश के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। नयी नीति में निजी, सामुदायिक एवं सार्वजनिक भागीदारी की रणनीति अपनाई गई है। पर्यटकों की सभी जरूरी सुविधाओं के लिए नयी अधोसंरचनाएं विकसित की जा रही हैं। राज्य में ट्राइबल टूरिज्म सर्किट का निर्माण, होम स्टे प्रणाली की स्थापना तथा गाइड ट्रेनिंग प्रोग्राम जैसे नवाचार भी किए जा रहे हैं।

राम वन गमन पर्यटन परिपथ के विकास के अंतर्गत 1120 किलोमीटर लंबे पथ पर नये पर्यटक स्थलों का विकास किया जा रहा है। योजना के प्रथम चरण में भगवान राम के वनवास काल से जुड़े 9 स्थानों का चयन कर उन्हें पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित किया जा रहा है। इस पूरे परिपथ में राज्य के 17 जिलों को शामिल किया गया है। इस परिपथ के निर्माण से भविष्य में छत्तीसगढ़ आने वाले पर्यटकों को छत्तीसगढ़ की प्राचीन संस्कृति और परंपरा के दर्शन होने के साथ ही विश्व स्तर की पर्यटन सुविधाएं भी प्राप्त हो सकेंगी।

छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड द्वारा गुवाहाटी में आयोजित इस बी-टू-बी मीटिंग में असम के टूर ऑपरेटर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री रंजीत दास, होटल एवं रेस्टोरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री सुनील सराफ, सचिव, प्रणब दास, कार्यकारिणी सदस्य रोज़ा रहमान, अज़ाना रहमान और रूपम वोहरा के साथ-साथ होटल और ट्रैवल इंडस्ट्रीज के 30 से ज्यादा पदाधिकारी एवं सदस्य भी उपस्थित थे।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF