अंतागढ़ टेप कांड में चौकाने वाला खुलासा- मंत्री राजेश मूणत के बंगले पर हुई थी 7.5 करोड़ की डील

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 07-09-2019 / 10:41 PM
  • Update Date: 07-09-2019 / 10:41 PM

रायपुर। अंतागढ़ टेपकांड मामले में भाजपा नेता मंतूराम पवार ने एक और बेहद चौकाने वाला खुलासा किया है। मंतूराम पवार अपने बयान से पलट गए हैं और मंतूराम ने खरीद-फरोख्त की बात स्वीकार कर ली है। मंतूराम पवार ने आज मजिस्ट्रेट के सामने धारा 164 में बयान दर्ज कराते हुए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, पूर्व मंत्री राजेश मूणत और पूर्व विधायक अमित जोगी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि पूरी डील साढ़े सात करोड़ की हुई थी।

मंतूराम ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि उस पर प्रेशर डालकर यह डील की गई। इसके बाद वह काफी गिल्टी महसूस कर रहा था। मंतुराम ने कोर्ट में यह बयान दर्ज कराया है कि, अंतागढ़ टेप कांड में साढ़े सात करोड़ रुपए की डील हुई थी और यह डील मंत्री राजेश मूणत के बंगले पर हुई थी। कथित रुप से इस बयान में मंतुराम पवार ने यह दावा भी किया है कि, इस पूरे मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी, तत्कालीन विधायक अमित जोगी शामिल थे।

मंत्री राजेश मूणत के बंगले पर साढ़े सात करोड़ रुपए का लेन देन हुआ था। विदित हो कि अंतागढ़ में उपचुनाव था और कांग्रेस की ओर से मंतुराम पवार प्रत्याशी थे, जिन्होंने एन वक्त पर नाम वापस ले लिया था। तत्कालीन पीसीसी चीफ भूपेश बघेल पर यह राजनैतिक हमला माना गया। इस पूरे प्रकरण को लेकर एक सीडी वायरल हुई जिसमें कथित तौर पर अमित जोगी, अजित जोगी, डॉ पुनीत गुप्ता, मेनन और फिरोज सिद्दकी की आवाजें थी।

यह कथित सीडी यह संकेत देती थी मंतुराम पवार को जानबूझकर नाम वापस कराया गया। कांग्रेस शासनकाल आते ही इस मसले को लेकर एसआईटी गठित की गई और फिर पंडरी थाने में अपराध दर्ज किया गया था। पंडरी थाने में दर्ज अपराध किरणमयी नायक प्रार्थी हैं जबकि आरोपी के रुप में मंतुराम पवार, अजित जोगी अमित जोगी और डॉ पुनीत गुप्ता के नाम दर्ज हैं।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF