कभी ढाबे पर बनाते थे आमलेट, आज है करोड़ों के मालिक

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 07-10-2017 / 5:45 PM
  • Update Date: 07-10-2017 / 5:45 PM

मुंबई। हाल ही में फिल्म न्यूटन और बादशाहो में नजर आए संजय मिश्रा आज जाने-माने एक्टर बन चुके हैं। वे 6 अक्टूबर 1963 को बिहार के पटना में जन्मे थे। उनके पिता सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में काम करते थे तथा दादा कलेक्टर थे।

इसके बावजूद मिश्रा की यहां तक पहुंचने की यात्रा बेहद उतार-चढ़ाव भरी रही है। संजय मिश्रा ने तब एक्टिंग से अपना नाता तोड़ लिया था, जब वे अपने कॅरियर में तेजी से सफल हो रहे थे। दरअसल, संजय अपने पिता के बेहद करीब थे। उनके निधन के बाद संजय पूरी तरह टूट गए। वे खुद को अकेला महसूस करने लगे थे। इसी दौरान एक रोज सब कुछ छोड़छाड कर बिना किसी को बताए ऋषिकेश चले गए।

संजय वहां किसी को नहीं बताना चाहते थे कि वे एक्टर हैं। वे वहां एक ढाबे पर काम करने लगे। उनके हिस्से में सब्जी और आमलेट बनाने का काम आया। उस समय तक संजय छोटी-बड़ी दर्जनों फिल्म में काम कर चुके थे। ढाबे पर कभी कोई उन्हें पहचान लेता तो वे इंकार करते कि वे संजय मिश्रा नहीं हैं। संजय पता नहीं कब तक उसी ढाबे पर काम करते, यदि रोहित शेट्टी उन्हें सही वक्त पर वहां से निकालकर न लाते।

रोहित अपनी फिल्म आॅल द बेस्ट की स्क्रिप्ट लिख रहे थे और वे अपनी फिल्म में संजय को लेना चाहते थे। किसी तरह उन्होंने उनका पता किया और संजय के ठिकाने पर पहुंच गए। काफी मनाने के बाद संजय वहां से लौटे और वापस फिल्मों में सक्रिय हुए। बताया जाता है कि आज संजय आथिर्क रूप से बेहद संपन्न हैं। उनके पास फॉर्च्यूनर और बीएमडब्लू कारें हैं। उनका पटना और मुंबई में घर है।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF