रियल स्टेट में मिलेंगी 80 लाख लोगों को नौकरियां

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 10-10-2017 / 9:21 PM
  • Update Date: 10-10-2017 / 9:21 PM

भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में वर्ष 2025 तक 80 लाख रोजगार अवसर सृजित होंगे और इस क्षेत्र में कुल कार्यबल की संख्या 1.7 करोड़ पर पहुंच जाएगी। यह अनुमान रियल एस्टेट कंपनियों के प्रमुख संगठन क्रेडाई और सलाहकार सीबीआरई की ज्वाइंट रिपोर्ट भारत के रियल एस्टेट सेक्टर के आर्थिक प्रभाव का आकलन में लगाया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार नए रियल एस्टेट नियामकीय कानून (रेरा) और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के पहले जैसी इस क्षेत्र में वृद्धि देखने को मिलेगी। इसमें बताया गया है कि देश की जीडीपी में रियल एस्टेट सेक्टर का वर्ष 2015 तक हिस्सा दोगुना बढ़कर 13 फीसद हो जाएगा। इस क्षेत्र में रोजगार के
अवसर मौजूदा 92 लाख से बढ़कर 1.72 करोड़ हो जाएंगे। वर्तमान में देश की जीडीपी में रियल एस्टेट क्षेत्र की हिस्सेदारी 6.3 फीसद की है जो कि उल्लेखनीय रूप से बढ़कर 13 फीसद हो जाएगी।

इस क्षेत्र के लिए दीर्घावधि की संभावनाएं काफी सकारात्मक है। क्रेडाई के अध्यक्ष जैक्सी शाह का कहना है कि सकारात्मक जनसांख्यिकी और नियमन वाले माहौल की वजह से देश की अर्थवयवस्था में रियल्टी क्षेत्र का योगदान उल्लेखनीय रूप से बढ़ेगा। उन्होंने कहा है कि इस सेक्टर में ग्रोथ बढ़ने से रोजगार अवसर सृजित होंगे। इससे 250 सहायक उद्योग पर भी परिवर्तनशील प्रभाव पड़ेगा जो कि रियल एस्टेट इंडस्ट्री पर निर्भर है।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF