राजीव गांधी फाउंडेशन समेत तीन ट्रस्ट की फंडिंग की होगी जांच

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 08-07-2020 / 7:27 PM
  • Update Date: 08-07-2020 / 7:27 PM

नई दिल्ली। राजीव गांधी फाउंडेशन और राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट के मामलों की जांच अब गृह मंत्रालय की तरफ से गठित कमेटी करेगी। इस मामले में गृह मंत्रालय ने एक कमेटी का गठन किया है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के विशेष निदेशक इस समिति के प्रमुख होंगे।

मंत्रालय समिति राजीव गांधी फाउंडेशन के साथ राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट, इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट की भी जांच करेगी। बताया जा रहा है कि इस जांच में मनी लॉड्रिंग एक्ट, इनकम टैक्स एक्ट, विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम, 2010 एक्ट के नियमों के उल्लंघन की जांच की जाएगी। सोशल मीडिया पर लोग इसे कांग्रेस के खिलाफ केंद्र सरकार की बड़ी कार्रवाई बता रहे हैं।

वहीं संगठनों के खिलाफ सरकार के इस कदम को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने ‘गैरकानूनी, मनमानी और दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई’ बताया। उन्होंने कहा कि चीन, कोरोना से लड़ने और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के बजाय सरकार केवल कांग्रेस से लड़ना चाहती है।

गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर स्थापित इस फाउंडेशन की अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं। इसके बोर्ड में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, पी. चिदंबरम और प्रियंका गांधी वाड्रा भी हैं। इस फाउंडेशन की वेबसाइट पर बताया गया है कि 1991 से 2009 तक फाउंडेशन ने स्वास्थ्य, शिक्षा, विज्ञान और तकनीक, महिला एवं बाल विकास, अपंगता सहयोग, शारीरिक रूप से निशक्तों की सहायता, पंजायती राज, प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन आदि क्षेत्रों में काम किया।

2010 में फाउंडेशन ने शिक्षा क्षेत्र पर फोकस करने का फैसला किया। संघर्ष से प्रभावित बच्चों को शैक्षणिक मदद, शारीरिक रूप से निशक्त युवाओं की गतिशीलता बढ़ाने और मेधावी भारतीय बच्चों को कैंब्रिज में पढ़ने हेतु वित्तीय सहायता आदि जैसे कार्यक्रम फाउंडेशन की ओर से चलाए जाते हैं।

फाउंडेशन की सालाना रिपोर्ट के अनुसार, उसे चीनी सरकार और भारत में चीनी दूतावास दोनों से चंदा मिला। राजीव गांधी फाउंडेशन की स्थापना 1991 में की गई थी, वहीं राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट 2002 में स्थापित हुई थी। दोनों की ही अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी कर रही हैं।

हालांकि, कांग्रेस ने ट्रस्ट में किसी भी तरह के गलत कामों और कानून के उल्लंघन से इनकार किया है और इसे राजनीतिक षड़यंत्र करार दिया। पिछले महीने ही भाजपा ने कांग्रेस पर धोखाधड़ी कआ आरोप लगाया था। भाजपा नेताओं ने कहा था कि जब कांग्रेस सत्ता में थी, तब मनमोहन सिंह सरकार प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा राहत कोष की राशि राजीव गांधी फाउंडेशन को दान में देते थे।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF