राजस्थान सियासी संकट: सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाया

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 14-07-2020 / 4:19 PM
  • Update Date: 14-07-2020 / 4:19 PM

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी ने सचिन पायलट के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें राजस्थान के उपमुख्यमंत्री पद तथा राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटा दिया है। कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसका ऐलान किया है। सचिन पायलट के अलावा उनका साथ देने वाले सभी विधायकों और मंत्रियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है।

हालांकि सचिन पायलट को अभी उपमुख्यमंत्री पद और पार्टी अध्यक्ष पद से हटाया गया है, लेकिन कांग्रेस पार्टी से उनकी सदस्यता रद्द नहीं की गई है। सचिन पायलट के साथ रमेश मीणा तथा विश्वेंद्र सिंह को भी मंत्री पद से हटा दिया गया है।

कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बैठक में शामिल नहीं होने और पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते सचिन पायलट को राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद समेत डिप्टी सीएम पद से सचिन पायलट को हटा दिया गया है।

उनकी जगह गोविंद सिंह दोतासरा को कांग्रेस अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के झांसे में आ अड़ गए थे सचिन पायलट, जिनकी कमी हमेशा अखरेगी। आलाकमान के पायलट को मनाने की सारी कोशिशें बेकार गई। ऐसे में भारी मन और खेद के साथ कुछ निर्णय लेने पड़े।

मीडिया के सामने सुरजेवाला ने कहा, सचिन पायलट और कांग्रेस के कुछ मंत्री और विधायक साथी भाजपा के षडयंत्र में उलझकर कांग्रेस की सरकार को गिराने की साजिश में शामिल हो गए। उन्‍होंने कहा, पिछले 72 घंटे से सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कांग्रेस के आला नेतृत्व ने सचिन पायलट से, साथी मंत्रियों से, विधायकों से संपर्क करने की कोशिश की।

कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से खुद आधा दर्जन बात की। कांग्रेस कार्यसमिति के वरिष्‍ठ सदस्‍यों ने दर्जनों बार बात की। हमने अपील की कि पायलट और बाकी विधायकों के लिए दरवाजे खुले हैं, वापस आइए। मतभेद दूर करेंगे। लेकिन इतनी बार बात होने पर भी सचिन पायलट नहीं माने हैं जिसकी जह से यह फैसला लिया गया है।

रणदीप सुरजेवाला ने सचिन पायलट पर कांग्रेस पार्टी की तरफ से की गई मेहरबानियां भी गिनाई और कहा कि वे 2002 में राजनीति में आए 2004 में सांसद बनाया गया, सिर्फ 32 साल की उम्र में केंद्रीय मंत्री, 34 साल की उम्र में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद बनाया गया। सुरजेवाला ने कहा कि सिर्फ 40 वर्ष की उम्र में सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री बना दिया गया और उनके ऊपर सोनिया और राहुल गांधी जी का व्यकितगत सनेह था इसलिए यह हो सका।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF