बिहार के नवादा में बोले राहुल गांधी – आपको एक दिन भी नहीं दिया और लॉकडाउन लगा दिया

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 23-10-2020 / 7:31 PM
  • Update Date: 23-10-2020 / 7:32 PM

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज बिहार के नवादा में चुनावी रैली की। इस दौरान राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता तेजस्वी यादव भी मौजूद थे। राहुल गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत पीएम मोदी पर हमले के साथ की। उन्होंने चीन के सीमा विवाद के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा। साथ ही, बेरोजगारी का भी जिक्र किया।

राहुल गांधी ने कहा कि जिस भी प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। वहां किसानों का कर्ज माफ किया गया है। मोदी अडानी और अंबानी के लिए रास्ता साफ कर रहे हैं। ऐसा ही रहा तो देश दो-तीन उद्योगपतियों के हाथ में चला जाएगा। राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने किसानों पर आक्रमण करने के लिए तीन कानून बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने लोगों से पूछा कि उन्हें प्रधानमंत्री मोदी का भाषण कैसा लगा।

राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने कहा था कि भारत 22 दिनों के भीतर कोरोना से मुक्त होगा। मैं फरवरी से कह रहा था कि भारत के गरीब, मजदूर और किसानों को कोरोना के कारण बड़े पैमाने पर नुकसान होगा, लेकिन मेरा उपहास उड़ाया गया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आगे कहा, पीएम ने कहा कि हम 22 दिनों में कोरोना को हरा देंगे। कैसे? बर्तन पीट कर और मोबाइल फोन की रोशनी से जगमगा कर। तुमने भी सोचा अगर वो कहते हैं कि चलो करते हैं। 6-7 महीने हो गए, कोरोना फैल रहा है। पीएम एक शब्द नहीं बोल रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा, बिहार के मजदूर हमारे विकास के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में काम कर रहे थे- चाहे वह मुंबई हो, दिल्ली हो या पंजाब हो। जैसे हमारे जवान लद्दाख में खड़े हैं, बिहार के मजदूर इस देश को अपना खून-पसीना दे रहे थे।

उन्होंने आगे कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने एक भी दिन आपको नहीं दिया और लॉकडाउन की घोषणा कर दी। उन्होंने एक मिनट के लिए भी नहीं सोचा कि बिहार के मजदूरों को पैसा कैसे मिलेगा? उन्हें भोजन और पीने का पानी कैसे मिलेगा?

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि बिहार के मजदूर अपने राज्य के लिए रवाना हुए। भोजन और पानी के बिना हजारों किलोमीटर पैदल चले। क्या पीएम ने आपकी मदद की? क्या उन्होंने सोचा कि वो एक और गलती कर रहे थे। क्या उन्होंने घर वापस जाने के लिए बसें, ट्रक, ट्रेन की पेशकश की? नहीं ना।

राहुल ने आगे कहा कि मैं कोरोना महामारी के बीच मजदूरों से मिला। उन्होंने मुझे बताया कि पीएम ने उन्हें दो दिन दिए, लाखों मजदूर आसानी से घर लौट आए। वे समझ नहीं पा रहे थे कि पीएम ने उन्हें कम से कम एक दिन क्यों नहीं दिया।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF