पुणे के स्कूल ने जारी किया ये अजीब फरमान, कहा- लड़कियां सिर्फ इस रंग का ही पहने इनरवियर

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 06-07-2018 / 8:47 AM
  • Update Date: 06-07-2018 / 8:48 AM

नई दिल्ली। पुणे के एक स्‍कूल ने अपनी छात्राओं को लेकर एक अजी फरमान जारी किया है। पुणे के माइर्स एमआईटी स्कूल के तहत आने वाले ‘एमआईटी विश्वशांति गुरुकुल’ ने स्‍कूल के गर्ल स्टूटेंड्स को खास कलर के इनरवियर पहनने का आदेश दिया है।

पेरेंट्स ने किया हंगामा
बच्चों की डायरी में स्कूल की ओर से लिखा गया है कि लड़कियां सिर्फ सफेद और स्किन कलर के इनरवियर पहनकर ही स्कूल आ सकती हैं। स्कूल के तालिबानी फरमान के बाद पेरेंट्स ने बुधवार को जमकर हंगामा किया और कहा कि ये बच्चों के अधिकारों का उल्लंघन है।

इनरवियर के साथ जारी किए 20 और नियम
स्कूल ने बच्चों की डायरी में करीब 20 ऐसे नियम बनाए हैं जो किसी भी लिहाज से जायज नहीं हैं। स्कूल की ओर से कहा गया है कि बच्चे तय समय पर ही टॉयलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं उसके बाद किसी बच्चे को वॉशरूम जाने की परमिशन नहीं होगी।

सिर्फ मेडिकल और इमरजेंसी की स्थिति में कोई बच्चा वॉशरूम जा सकता है। अगर सेनेटरी पैड्स को सही तरह से उसके लिए तय डब्बे में नहीं डाला गया तो स्कूल 500 रुपए का जुर्माना लेगा। लड़कियों की स्कर्ट की लंबाई घुटनों तक ही होनी चाहिए और स्कूल के पास रजिस्टर्ड टेलर से ही ड्रेस सिलवानी होगी।

छात्रा की मां ने कहा…
एक छात्रा की मां ने कहा कि लड़कियों को या तो सफेद या स्किन रंग के इनरवियर पहनने के लिए कहा गया है। स्कूल प्रशासन ने स्कर्ट की लंबाई को लेकर भी आदेश दिया है। उनके पास इन सभी चीजें स्कूल डायरी में मौजूद हैं और हमें इस पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया है।
स्‍कूल के कार्यकारी ने कहीं ये बात
इस मामले में एमआईटी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन की कार्यकारी निदेशक डॉ. सुचित्रा कराद नागरे ने कहा – स्कूल डायरी में इस तरह के नियम जारी करने के पीछे कोई गलत मंशा नहीं थी। पूर्व में भी इस तरह के हमारे कुछ अनुभव रहे हैं जिसे लेकर हमें यह निर्णय लेना पड़ा है। हमारा कोई छिपा हुआ एजेंडा नहीं है।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF