पीएम मोदी ने की ‘स्वामित्व योजना’ की शुरुआत, कहा- आत्मनिर्भर भारत अभियान की दिशा में बड़ा कदम

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-10-2020 / 8:00 PM
  • Update Date: 11-10-2020 / 8:00 PM

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को स्वामित्व योजना की शुरुआत की। इस मौके पर करीब सवा लाख लोगों को प्रॉपर्टी कार्ड वितरित किए जाएंगे। मोदी सरकार का ये कदम भारत के ग्रामीण क्षेत्रों मे बड़ा बदलाव करने के लिए अहम कदम माना जा रहा है।

बता दें कि पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘स्वामित्व’ योजना के तहत भू-संपत्ति मालिकों को संपत्ति कार्ड वितरित करने की योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के तहत लगभग एक लाख भू-संपत्ति मालिक अपने मोबाइल फोन पर SMS से प्राप्त होने वाले लिंक से संपत्ति कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि, इस योजना के बाद अब आपकी संपत्ति कोई गलत नजर नहीं डाल सकेगा।

पीएम मोदी ने कहा कि, आज जिन एक लाख लोगों को अपने घरों का स्वामित्व पत्र मिला है। जिन्होंने अपना स्वामित्व कार्ड डाउनलोड किया है, उन्हें मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। उन्होंने कहा कि आज आपके पास एक अधिकार है, एक कानूनी दस्तावेज है कि आपका घर आपका ही है, आपका ही रहेगा। ये योजना हमारे देश के गांवों में ऐतिहासिक परिवर्तन लाने वाली है।

उन्होंने कहा कि आज हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के हजारों परिवारों को उनके घरों के कानूनी कागज सौंपे गए हैं। पीएम ने कहा कि अगले तीन-चार साल में देश के हर गांव में, हर घर को इस तरह के प्रापर्टी कार्ड देने का प्रयास किया जाएगा।

पीएम मोदी ने कहा, आज इतना विराट काम ऐसे दिन हो रहा है, जिसका हिन्दुस्तान के इतिहास में काफी महत्व है। आज दो-दो महापुरुषों की जयंती है। एक भारत रत्न लोकनायक जयप्रकाश नारायण और दूसरे भारत रत्न नानाजी देशमुख हैं। जय प्रकाश बाबू ने जब संपूर्ण क्रांति का आहृवान किया, बिहार की धरती से जो आवाज उठी, जो सपनें जय प्रकाश जी ने देखे थें, जिस सपनों की ढाल बनके नानाजी देशमुख जी ने काम किया।

पीएम मोदी ने कहा, नानाजी कहते थे कि जब गांव के लोग विवादों में फंसे रहेंगे तो न अपना विकास कर पाएंगे और न ही समाज का। इससे समाज में बंटवारा होगा। मुझे विश्वास है, स्वामित्व योजना भी हमारे गांवों में अनेकों विवादों को समाप्त करने का बहुत बड़ा माध्यम बनेगी। पूरे विश्व के बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स इस बात पर जोर देते रहे हैं कि जमीन और घर के मालिकाना हक की, देश के विकास में बड़ी भूमिका होती है। जब संपत्ति का रिकॉर्ड होता है, जब संपत्ति पर अधिकार मिलता है तो नागरिकों में आत्मविश्वास बढ़ता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, दुनिया में एक तिहाई आबादी के पास ही कानूनी रूप से अपनी संपत्ति का रिकॉर्ड है, पूरी दुनिया में दो तिहाई लोगों के पास ये नहीं है। ऐसे में भारत जैसे विकासशील देश के लिए ये बहुत जरूरी है कि लोगों के पास उनकी संपत्ति का सही रिकॉर्ड हो। बता दें कि इस दौरान पीएम मोदी ने स्वामित्व (ग्रामीण क्षेत्रों में अत्याधुनिक तकनीक के साथ गांवों का सर्वेक्षण एवं मानचित्रण) योजना के कई लाभार्थियों से बातचीत भी की।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने कहा कि इस कार्यक्रम की शुरुआत से करीब एक लाख संपत्ति मालिक अपनी संपत्ति से जुड़े कार्ड अपने मोबाइल फोन पर एसएमएस लिंक के जरिए डाउनलोड कर सकेंगे। इसके बाद संबंधित राज्य सरकारें संपत्ति कार्डों का भौतिक वितरण करेंगी। ये लाभार्थी छह राज्यों के 763 गांवों से हैं। इनमें उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100, मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के दो गांव शामिल हैं।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF