आपातकाल के 44 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने शेयर किया वीडियो, कहीं ये बड़ी बातें

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 25-06-2019 / 1:27 PM
  • Update Date: 25-06-2019 / 1:27 PM

नई दिल्ली। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक फैसले ने भारत के राजनीतिक इतिहास में एक ऐतिहासिक पन्ना लिख दिया। आज से ठीक 44 साल पहले 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगा था। इसे भारत के लोकतांत्रिक इतिहास का काला अध्याय भी कहा जाता है। आपातकाल की घोषणा आधी रात को की गई थी। यह आपातकाल 21 मार्च 1977 तक लगा था।

दरअसल इलाहाबाद हाइकोर्ट ने इंदिरा गांधी को चुनाव में धांधली करने का दोषी पाया था। उसके बाद उन पर 6 सालों तक कोई भी पद संभालने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। लेकिन इंदिरा गांधी ने न्यायालय के इस फ़ैसले को मानने से इनकार कर दिया, फिर उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में अपील करने की घोषणा की, उनकी इस घोषणा के बाद से ही 25 जून को आपातकाल लागू करने की घोषणा कर दी गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो क्लिप डालकर इमरजेंसी को याद किया। प्रधानमंत्री द्वारा ट्विटर पर शेयर किए वीडियो में संसद के भाषण की एक क्लिप को भी दिखाया गया है। वहीं गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा कि आज ही के दिन राजनीतिक हितों के लिए लोकतंत्र की हत्या कर दी गई थी।

केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी इस पर ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि, 1975 में आज ही के दिन मात्र अपने राजनीतिक हितों के लिए देश के लोकतंत्र की हत्या की गई। देशवासियों से उनके मूलभूत अधिकार छीन लिए गए, अखबारों पर ताले लगा दिए गए। लाखों राष्ट्रभक्तों ने लोकतंत्र को पुनर्स्थापित करने के लिए अनेकों यातनाएं सहीं, मैं उन सभी सेनानियों को नमन करता हूं।

राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, 25 जून, 1975 को आपातकाल की घोषणा और इसके बाद की घटनाएं, भारत के इतिहास के सबसे गहरे अध्यायों में से एक के रूप में चिह्नित हैं। इस दिन, हमें भारत के लोगों को हमेशा अपने संस्थानों और संविधान की अखंडता को बनाए रखने के महत्व को याद रखना चाहिए।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF