पीएम मोदी ने की ‘मन की बात’, कहा- कोरोना का खतरा खत्म नहीं हुआ, हमें सतर्क रहने की जरूरत

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 26-07-2020 / 3:19 PM
  • Update Date: 26-07-2020 / 3:19 PM

नई दिल्ली। रविवार यानी 26 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कारगिल विजय दिवस के मौके पर मन की बात कार्यक्रम को संबोधित किया साथ ही कोरोनो वायरस बीमारी के प्रसार से निपटने के लिए देश भर से प्रेरणादायक कहानियां भी साझा कीं। पीएम ने करगिल युद्ध के 21 साल पूरे होने पर इस जंग में जान गंवाने वाले भारतीय सैनिकों को याद किया।

पीएम मोदी ने कहा कि, पाकिस्तान ने भारत की पीठ में छुरा घोंपने की कोशिश की थी। दुश्मन पहाड़ पर बैठा था, लेकिन जीत भारतीय सेना के हौसले और सच्ची वीरता की हुई। प्रधानमंत्री ने कहा, वो दिन सबसे अनमोल क्षणों में से एक है। सोशल मीडिया पर भी लोग अपने वीरों को नमन कर रहे हैं। मैं सभी देशवासियों की तरफ से उन वीर माताओं को नमन करता हूं, जिन्होंने ऐसे वीरों को जन्म दिया।

कारगिल संघर्ष को याद करते हुए अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि भारत की जीत बहुत महत्वपूर्ण और प्रशंसनीय है क्योंकि हमारे सैनिकों ने बाधाओं को हराया और विजयी हुए। उन्होंने कहा कि दुश्मन उच्च आधार पर प्रभावित था और फिर भी, भारतीय सैनिक पाकिस्तानी सैनिकों को हरा देने में सक्षम थे। प्रधानमंत्री ने कहा, पाकिस्तान ने इस कुप्रथा को भारत की भूमि पर कब्जा करने और अपने आंतरिक संघर्षों से ध्यान हटाने की योजना के साथ लिया।

इस दिन से बीस साल पहले, हमारी सेना ने कारगिल युद्ध जीता था। भारत तब पाकिस्तान के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन कहा जाता है कि दुष्टों के स्वभाव में बिना किसी कारण के सभी के साथ शत्रुता है।

उन्होंने तब कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी और देशवासियों से उनकी बहादुरी के किस्से पढ़ने और साझा करने का आग्रह किया। उन्होंने महात्मा गांधी के ताबीज के बारे में भी बात की और लोगों को सीमाओं पर सैनिकों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए काम करने और कहने के लिए कहा।

पीएम मोदी ने कोरोना वायरस के प्रसार की जांच के लिए देश भर में किए जा रहे प्रयासों की ओर ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने जम्मू-कश्मीर से कुछ प्रेरणादायक कहानियाँ साझा कीं।

स्वदेशी पर जोर देते हुए पीएम ने कहा की, कुछ दिन बाद रक्षाबंधन आ रहा है। कई संस्थाएं इस बार यह पर्व अलग तरीके से मनाने का अभियान चला रहे हैं। लोकल से वोकल की बात भी की जा रही है। यही करना बेहतर रहेगा। नेशनल हैंडीक्राफ्ट दिवस भी आ रहा है। हम न केवल इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें, बल्कि दुनिया को भी बताएं। हमारे हैंडलूम में बहुत पोटेंशियल है। इससे हमारे लोकल कारीगरों को लाभ होगा।

प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने में भारत के ट्रैक रिकॉर्ड पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि आज, हमारे देश में कोरोना वायरस कि रिकवरी दर दूसरों की तुलना में बेहतर है। हमारी मृत्यु दर अन्य देशों की तुलना में बहुत कम है। हम लाखों लोगों की जान बचाने में सक्षम हैं, लेकिन कोरोनावायरस का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है। यह कई क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है, हमें सतर्क रहने की जरूरत है

पीएम ने बचाव कि बात करते हुए कहा कि, इस बार स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम भी कोरोना के बीच होगा। ऐसे में सावधानी रखें। एक अगस्त को लोकमान्य बालगंगाधर तिलक जी की 100वीं पुण्यतिथि है। उन्होंने देश के लिए पूरा जीवन समर्पित कर दिया। उनकी शिक्षाओं से हम काफी कुछ सीख सकते हैं। अब अगली बार अगस्त में मुलाकात होगी। सभी स्वस्थ रहें।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF