पीएम मोदी ने किया उच्च क्षमता वाली कोविड-19 परीक्षण सुविधाओं का शुभारंभ व्यवस्था

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 27-07-2020 / 7:33 PM
  • Update Date: 27-07-2020 / 7:33 PM

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने आज सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से नोएडा, मुंबई और कोलकाता में उच्च क्षमता वाली कोविड-19 परीक्षण सुविधाओं का शुभारंभ किया। इस मौके पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ इस बड़ी और लंबी लड़ाई के लिए सबसे महत्वपूर्ण था कि देश में तेजी के साथ कोरोना विशिष्ट स्वास्थ्य व्यवस्था का निर्माण हो। इसी वजह से बहुत शुरुआत में ही केंद्र सरकार ने 15 हजार करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान कर दिया था। प्रधानमंत्री ने कहा कि जनवरी में हमारे पास कोरोना के टेस्ट के लिए जहां मात्र एक सेंटर था, आज करीब 1300 लैब्स पूरे देश में काम कर रही हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान हर कोई सिर्फ एक ही संकल्प के साथ जुटा है कि एक-एक भारतीय को बचाना है. इस संकल्प ने भारत को हैरतअंगेज परिणाम दिए हैं। विशेषकर पीपीई, मास्क और टेस्ट किट्स को लेकर भारत ने जो किया, वो एक बड़ी सक्सेस स्टोरी है। एक समय भारत में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी। आज भारत, दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पीपीई किट निर्माता है।

पीएम मोदी ने कहा कि एक समय था जब भारत वेंटिलेटर्स के लिए भी दूसरे देशों पर निर्भर था। आज भारत में हर साल 3 लाख वेंटिलेटर बनाने की उत्पादन क्षमता विकसित हो चुकी है। इस दौरान मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर का उत्पादन में भी बहुत वृद्धि की गई।

सभी के इन सामूहिक प्रयासों की वजह से आज न सिर्फ लोगों का जीवन बच रहा है, बल्कि जो चीजें हम आयात करते थे, अब देश उनका एक्सपोर्टर बनने जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज अगर भारत की कोरोना से लड़ाई को देखकर दुनिया अचंभित है, बड़ी-बड़ी आशंकाएं गलत साबित हो रहीं हैं तो इसका एक बड़ा कारण हमारे ये फुट सोल्जर भी हैं। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आज हम उस स्थिति पर आ चुके हैं, जहां हमारे पास जागरूकता की कमी नहीं है, साइंटिफिक डेटा का विस्तार हो रहा है और संसाधन भी बढ़ रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि हमें मिलकर नया हेल्थ इंफ्रा तो तैयार करना ही है, जो हमारे पास गांव-गांव में सरकारी और प्राइवेट डिस्पेंसरीज़ हैं, क्लीनिक हैं, उनको ज्यादा सक्षम भी बनाना है। ये हमें इसलिए भी करना है ताकि हमारे गांवों में कोरोना से लड़ाई कमजोर न पड़े। अभी तक गांवों ने इसमें बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। इसके साथ ही हमें इस बात का ध्यान रखना है कि हमारे कोरोना योद्धा किसी तरह की थकान का शिकार ना हो। हमें नए और रिटायर्ड प्रोफेशनल्स को हेल्थ सिस्टम से जोड़ने के लिए भी लगातार काम करना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में बहुत से त्योहार आने वाले हैं। हमारे ये उत्सव, उल्लास का कारण बनें, लोगों में संक्रमण न फैले इसके लिए हमें हर सावधानी रखनी है। हमें ये भी देखते रहना होगा कि उत्सव के इस समय में गरीब परिवारों को परेशानी ना हो।

उन्होंने कहा कि हमारे देश के प्रतिभावान वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन के लिए तेज़ी से काम कर रहे हैं, लेकिन जब तक कोई प्रभावी दवा या वैक्सीन नहीं बनती, तब तक मास्क, 2 गज़ की दूरी, हाथ की सफाई ही हमारा विकल्प है। हमें खुद भी बचना है और घर में छोटी-बड़ी आयु सभी परिजनों को भी बचाना है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई, हम सभी मिलकर लड़ेंगे और जीतेंगे। एक बार फिर इन हाईटेक सुविधाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF