6 राज्यों को मिले नए राज्यपाल, लालजी टंडन बने मध्य प्रदेश के गवर्नर

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 20-07-2019 / 3:55 PM
  • Update Date: 20-07-2019 / 3:55 PM

नई दिल्ली। केंद्र की सहमति से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 6 राज्यों के राज्यपालों की नियुक्ति की है। कुल 6 राज्यपालों की नियुक्ति की सूचना जारी की गई। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालजी टंडन को मध्य प्रदेश का नया राज्यपाल बनाया गया है।

वहीं मध्य प्रदेश की मौजूदा गवर्नर आनंदीबेन पटेल को उत्तरप्रदेश भेजा गया। टंडन इससे पहले बिहार के राज्यपाल थे। उनकी जगह फागु चौहान की नियुक्ति हुई है। पश्चिम बंगाल में केसरीनाथ त्रिपाठी को हटाकर जगदीप धनखड़ को राज्यपाल बनाया गया। रमेश बैंस को त्रिपुरा का गवर्नर बनाया गया।

इन राज्यपालों का हुआ तबादला
गुजरात की पूर्व सीएम आनंदीबेन पटेल अभी मध्य प्रदेश की राज्यपाल हैं। उनका तबादला उत्तर प्रदेश कर दिया गया है। बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन का भी तबादला मध्य प्रदेश कर दिया गया है।

राज्य- पहले राज्यपाल- नए राज्यपाल-

उत्तर प्रदेश- राम नाईक (कार्यकाल खत्म) आनंदीबेन पटेल
पश्चिम बंगाल- केसरीनाथ त्रिपाठी (कार्यकाल खत्म) जगदीप धनखड़
मध्य प्रदेश- आनंदीबेन पटेल (ट्रांसफर) लालजी टंडन
बिहार- लालजी टंडन फगु चौहान
त्रिपुरा- कप्तान सिंह सोलंकी (कार्यकाल खत्म) रमेश बैंस
नगालैंड- पद्मनाभ आचार्य (कार्यकाल खत्म) आरएन रवि

लालजी टंडन ने अटलजी की सीट से लड़ा था चुनाव
लालजी टंडन का जन्म 12 अप्रैल 1935 में हुआ। वो भाजपा के एक वरिष्ठ राजनेता हैं। पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के 2009 में राजनीति से संन्यास लेने के बाद वो लखनऊ से 2009 में लोकसभा सांसद चुने गए थे। उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहने वाले टंडन प्रदेश की भाजपा सरकारों में मंत्री भी रहे हैं।

लालजी टंडन का राजनीतिक सफर साल 1960 में शुरू हुआ। मायावती और कल्याण सिंह की कैबिनेट में वह नगर विकास मंत्री रहे। कुछ वर्षों तक वह नेता प्रतिपक्ष भी रहे। टंडन ने जेपी आंदोलन में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था।

पिछले साल राज्यपाल बनीं थी आनंदीबेन
21 जनवरी 1941 को जन्मी आनंदी ने जनवरी 2018 में मध्य प्रदेश के राज्यपाल के रूप में शपथ ली थी। वे राज्य की दूसरी महिला राज्यपाल थीं। इसके पहले सरला ग्रेवाल मार्च 1989 से फरवरी 1990 तक प्रदेश की राज्यपाल रही थीं। आनंदी 1988 में भाजपा में शामिल हुई। 1995 में शंकर सिंह वाघेला ने जब पार्टी से बगावत की थी, तो उस कठिन दौर में उन्होंने नरेंद्र मोदी के साथ काम किया।

1998 में गुजरात कैबिनेट में आने के बाद से उन्होंने शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण जैसे मंत्रालयों का जिम्मा संभाला। मई 2014 से अगस्त 2016 तक वे गुजरात की मुख्यमंत्री रहीं। गुजरात विधानसभा चुनाव में न लड़ने के फैसले के बाद पिछले साल जनवरी में उन्हें मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाया गया। वे मध्यप्रदेश की दूसरी और कुल 27वीं महिला गवर्नर थीं।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF