नवरात्रि में उपवास के दौरान इन 8 तरह के भोजन से रहें दूर

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 21-09-2017 / 4:33 PM
  • Update Date: 01-10-2017 / 3:36 PM

नवरात्र का पर्व शुरू हो चुका है। इन दिनों मां दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा की जाती है। इस दौरान भक्त मां देवी की कृपा पाने के लिए नौ दिन तक उपवास भी रखते हैं। वहीं, इन दिनों में मां के भक्तों को कई चीज त्याग देना चाहिए। आज हम आपकों बता रहे हैं कि मां के इन नौ दिनों में आपको क्या नहीं खाना चाहिए।

मांसाहारी भोजन
चिकन, मटन, मछली, अंडे और अन्य मांसाहारी भोजन पूरी तरह से वर्जित है। यह राजसिक श्रेणी का खाना है। अगर आप उपवास नहीं कर रहे हैं तब भी आपको इस दौरान मांसाहारी भोजन से दूर रहना चाहिए।

प्याज और लहसुन
भोजन को प्याज और लहसुन के बिना बनाने की सलाह दी जाती है। खाने में लहसुन-प्याज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यह तामसिक भोजन की श्रेणी में आता है और इससे शरीर की गर्मी बढ़ती है।

दाल और फलियां
उपवास के दौरान भक्त दालों और फलियों से भी दूर रहते हैं। इस दौरान आलू, शकरकंद, अरबी, सूरन, गाजर, खीरा और लौकी जैसी सब्जियों को खाने की सलाह दी जाती है।

नमक
उपवास के दौरान भोजन में साधारण नमक का इस्तेमाल करने के बजाए सेंधा नमक डालना चाहिए।

मसाले
नवरात्र के उपवास के दौरान कुछ मसालों का इस्तेमाल वर्जित है। इन मसालों में हल्दी, हींग, सरसों या राई, मेथी दाना और गरम मसाले शामिल हैं। हालांकि आप अपने खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए जीरा, हरी मिर्च, काली मिर्च और अज्वाइन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आटा
उपवास के दौरान मक्के का आटा, चावल का आटा, मैदा, गेहूं का आटा और सेंवई का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इनके बजाए आप कुट्टू और सिंघाड़े के आटे का इस्तेमाल कर सकते हैं।

चावल
नवरात्र के उपवास के दौरान आप रोजाना इस्तेमाल होने वाला चावल नहीं खा सकते हैं। व्रत के लिए समा के चावल आते हैं, जिन्हें आप अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं।

पेय पदार्थ और शराब
अगर आप व्रत कर रहे हैं तो इस दौरान सोडा-कोला और शराब पूरी तरह से वर्जित है। नवरात्र में वो भक्त भी शराब और सिगरेट से दूर रहते हैं जो व्रत नहीं करते हैं।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF