#MeToo में फंसे मंत्री एमजे अकबर, नाइजीरिया दौरा छोड़कर आज लौट सकते हैं देश

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-10-2018 / 3:29 PM
  • Update Date: 11-10-2018 / 3:29 PM

नई दिल्ली। बीजेपी के नेता व विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर पर भी मी टू कैंपेन का कहर टूटा है। यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद अकबर के पद को भी खतरा है। अब अगर सूत्रों की मानें तो एम जे अकबर को विदेश दौरे के बाद अपने पद से इस्तीफा देना पड़ सकता है। बताया जा रहा है।

सरकार ने उन्हें नाइजीरिया के दौरे पर भेजा था, लेकिन इस आरोप के चलते उनका दौरा रद्द कर दिया गया है और उन्हें बुधवार को जल्द से जल्द काम खत्म करके गुरुवार को यानी आज भारत वापस लौटने के लिए कहा गया है।

इस मामले में केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के नेता रामदास अठावले, शिवसेना नेता संजय राउत और उत्तर प्रदेश सरकार में पर्यटन मंत्री और बीजेपी महिला नेता रीता बहुगुणा जोशी ने कहा है कि एमजे अकबर का पक्ष भी सामने आना चाहिए। अठावले और राउत ने MeToo कैंपेन का विरोध किया है और कहा है कि 10-15 साल बाद आरोप लगाने का क्या आशय है। राउत ने कहा है कि एमजे अकबर पर सरकार फैसला केंद्र सरकार को लेना है, लेकिन ये अभियान ठीक नहीं है।

वहीं, अठावले ने कहा है कि इस मामले की जांच होनी चाहिए अकबर का भी पक्ष सुना जाना चाहिए। रीता बहुगुणा जोशी ने कहा है कि यह इस्तीफे का सवाल नहीं है। सवाल किसी पर लगाए गए आरोपों को साबित करने का है। हर महिला को आरोप लगाने का हक है और इसकी जांच भी होनी चाहिए। महिलाओं ने अपनी बात रख दी है, पुरुषों को भी अपना पक्ष रखने का हक है।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF