महाराष्ट्र: अनिल देशमुख के इस्तीफे के बाद दिलीप वलसे पाटिल को मिली गृह विभाग की जिम्मेदारी

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 05-04-2021 / 9:32 PM
  • Update Date: 05-04-2021 / 9:32 PM

मुंबई। अनिल देशमुख के गृह मंत्री के पद से इस्तीफे के बाद एनसीपी नेता दिलीप वलसे पाटिल को महाराष्ट्र के नए गृहमंत्री की जिम्मेदारी सौंप दी गई है। उद्धव ठाकरे ने दिलीप वलसे को गृहमंत्री पद की कमान दे दी है। इसकी जानकारी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने दी है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) की जारी बयान के अनुसार, सीएम उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे को लेकर राज्यपाल को बताया कि दिलीप वालसे पाटिल के पास अब गृह मंत्रालय का प्रभार रहेगा।

महाराष्ट्र के सीएमओ ने कहा कि दिलीप वलसे पाटिल के श्रम विभाग का प्रभार हसन मुश्रीफ को अतिरिक्त प्रभार के रूप में दिया जा रहा है और राज्य के आबकारी विभाग की देखरेख डिप्टी सीएम अजीत पवार करेंगे।

गौरतलब है कि अनिल देशमुख ने मुख्यमंत्री कार्यालय को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। अपने इस्तीफे में देशमुख ने लिखा है कि, सीबीआई जांच के बीच अपने पद पर बने रहना नैतिकता के खिलाफ है। यह इस्तीफा मैं अपनी मर्जी से दे रहा हूं। उन्होंने कहा कि, मेरा इस्तीफा स्वीकार किया जाय।

बता दें कि मुंबई हाईकोर्ट के आदेश के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कोर्ट ने सीबीआई को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह की ओर से महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करने का आदेश दिया है।

एक शीर्ष राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता ने सोमवार को यहां इसकी जानकारी दी। एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने पत्रकारों को कहा, हाईकोर्ट के निर्देशों के तुरंत बाद, देशमुख ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात की और निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए इस्तीफे की पेशकश की।

मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी.एस. कुलकर्णी की खंडपीठ ने सीबीआई को देशमुख के खिलाफ सिंह के आरोपों पर 15 दिनों के भीतर ‘प्रारंभिक जांच’ करने का निर्देश दिया है। हाईकोर्ट के फैसले के बाद, पवार द्वारा एक उच्च-स्तरीय एनसीपी बैठक बुलाई गई थी जिसमें उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और अन्य वरिष्ठ नेता भी चर्चा में मौजूद थे। विपक्षी भाजपा भी देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रही थी।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF