करवाचौथ : ये हैं वो 7 श्रृंगार जो महिलाओं को बनाए रखते हैं सदा सुहागन

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 01-10-2017 / 5:25 PM
  • Update Date: 05-10-2017 / 9:57 PM

हर महिला के जीवन में सोलह श्रृंगार का विशेष महत्व होता है इतना ही नहीं महिला अपने जीवन पर हर विशेष मौके पर इन 16 चीजों का प्रयोग करती है जिससे उनकी सुंदरता और निखर कर सामने आती है। शास्त्रों में भी सोलह श्रृंगार किए हुए स्त्री को साक्षात लक्ष्मी का रूप माना गया है। कहा जाता है कि अगर घर से निकलते समय कोई स्त्री सोलह श्रृंगार में सजी हुई दिख जाए तो वो लक्ष्मी कृपा प्राप्त होने का एक शगुन है।

साथ ही आपको बता दें कि सोलह श्रृंगार करके महिला अगर घर में रहे तो इससे घर में सुख व समृद्धि आती है। भारतीय संस्कृति में सोलह श्रृंगार को जीवन का अहम और अभिन्न अंग माना गया है। ऋग्वेद में सौभाग्य के लिए किए जा रहे सोलह श्रृंगारों के बारे में बताया गया है।

पुराने समय से ही स्त्रियों को घर-परिवार की मान-प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है और इसी कारण इनके रूप-सौंदर्य को बनाए रखने के लिए कई प्रकार की परंपराएं प्रचलित हैं। इन्हीं परंपराओं में से एक है कि विवाहित स्त्री प्रतिदिन सोलह श्रृंगार का उपयोग करें। लेकिन आजकल के जमाने में ये सारी चीजें महिलाएं भूल चुकी है क्‍योंकि ऑफिस या अन्य जगहों पर कार्यरत महिलाओं को 16 श्रृंगारों के नाम तक भी नहीं मालूम होंगे यह बड़ा ही चिन्ता का विषय है।

शास्‍त्रों के अनुसार ये हैं वो 16 श्रृंगार –
1. सिंदूर, 2.चुड़ियां, 3. बिछुए, 4. पायजप, 5. नेलपेंट, 6. बाजूबंद, 7. लिपस्टिक

8. आंखों में अंजन, 9. कमर में तगड़ी , 10. नाक में नथनी, 11. कानों में झुमके,

12. बालों में चूड़ा मणि, 13. गले में नौलखा हार, 14. हाथों की अंगुलियों में अंगुठियां

15. मस्तक की शोभा बढ़ाता मांग टीका, 16. बालों के गुच्छों में चम्पा के फूलों की माला

 

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF