हिप्नोथेरेपी से संभव है डिप्रेशन और फोबिया का इलाज

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 24-02-2019 / 9:02 PM
  • Update Date: 24-02-2019 / 9:02 PM

अनजाने डर और डिप्रेशन को हिप्नोथेरेपी से बिल्कुल ठीक किया जा सकता है, WHO ने भी माना है, कि सायको सोमेटिक डिसीज को ठीक करने में हिप्नोथैरेपी अन्य उपचार पद्धतियों की तुलना में 93 प्रतिशत तक सही काम करती है, ये कहना हिप्नोसिस इंटरनेशनल बोर्ड ऑफ रजिस्ट्रेशन (यूएसए) के सदस्य और मुंबई के जाने माने हैप्नोथरेपिस्ट साजन गलानी का है।

गलानी सेल्फ हिप्नोसिस की दो दिवसीय वर्कशॉप लेने इंदौर आये थे। गलानी ने सेल्फ हिप्नोसिस से मन, बुद्धि और शरीर को स्वस्थ्य रखने की कई तकनीकें सीखाई। उन्होंने बताया कि हिप्नोसिस समाज में फैल राहे नकारात्मक व्यवहार को सही करने के लिए महत्वपूर्ण है।

शोध के अनुसार
अमेरिका में किये गए एक शोध के अनुसार बच्चे को 3 से 18 वर्ष की उम्र तक 1 करोड़ 45 लाख बार किसी न किसी काम को करने से मना किया जाता है या रोक दिया जाता है। भारत में स्थति और भी बदतर है। यही कारण है युवा पीढ़ी में आत्मविश्वास की भारी कमी हो रही है जिससे या तो वे कमजोर नागरिक बनते है या आत्महत्या जैसे कदम उठाते हैं।

बढ़ते डिप्रेशन और कॉन्फिडेंस की कमी को सेल्फ हिप्नोसिस से ठीक किया जा सकता है। ये उपचार की ऐसी पद्धति है जिसे आत्मविश्वास बढ़ाने, गलतफहमी और बेवजह के डर को दूर करने में उपयोग किया जाता है।

नेगेटिव प्रोग्रामिंग को रिप्रोग्राम करने की जरूरत है
गलानी के अनुसार जीवन में किसी भी स्तर पर आई नकारात्मकता इंसान तरह तरह के डर पैदा करती है, जैसे अच्छा काम करने के वाबजूद असफलता का डर, निर्णय लेने में डर, स्टेज पर बोलने का डर, आग पानी या ऊँचाई से डर। हैप्नोथेरेपी से इन सभी डर को दूर किया जा सकता है।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF