राफेल विवाद : दसॉल्ट का खुलासा – राफेल डील के लिए जरूरी था रिलायंस से साझेदारी करना

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-10-2018 / 11:40 AM
  • Update Date: 11-10-2018 / 11:40 AM

नई दिल्ली। फ्रांस के इंवेस्टिगेटिव जरनल मीडियापार्ट द्वारा राफेल डील से जुड़े दसॉल्ट एवीएशन के कुछ अहम दस्तावेज होने का दावा किया गया है। इन दस्तावेजों से यह बात सामने आई है कि राफेल मेकर दसॉल्ट को इस डील के लिए रिलायंस से साझेदारी करना जरूरी था। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दस्तावेज में यह भी कहा गया है कि भारत को राफेल बेचने के लिए शर्त रखी गई थी कि कि उसे अनिल अंबानी की कंपनी को इस डील में शामिल करना ही होगा।

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के फ्रांस दौरे को लेकर पहले से ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सवाल उठा चुके हैं और अब इस रिपोर्ट का सामने आना उनके लिए नई मुसीबत बन सकता है। राहुल गांधी ने कहा है कि पीएम के फैसले को न्यायसंगत बनाने के लिए रक्षा मंत्री आज रात फ्रांस के लिए जा रहीं है। कांग्रेस के अलावा दूसरे विपक्षी दल भी लगातार इस डील में भारी गड़बड़ी की बात कह रहे हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने भी राफेल डील के लिए भारत सरकार द्वारा अनिल अंबानी की कंपनी के नाम सुझाव भेजे जाने की बात कही गई थी। एक इंटरव्यू में ओलांद से पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा था कि ‘यह भारत सरकार थी जिसने रिलायंस के नाम का प्रस्ताव दिया था और दसॉल्ट के पास कंपनी को देने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।’

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF