सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 19-12-2017 / 8:48 AM
  • Update Date: 19-12-2017 / 8:48 AM

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सोमवार को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में जैश ए मोहम्मद के दो आतंकी मारे गए। इस दौरान एक सैन्यकर्मी भी घायल हो गया। मुठभेड़ के दौरान आतंकियों को बचाने के लिए हिसक हुई भीड़ व पुलिस के बीच हुई झड़पों में एक पे्रस छायाकार समेत चार लोग जख्मी हो गए। जैश के आतंकियों को शोपियां के बटमुरन गांव में देखे जाने की सूचना मिलते ही राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल ने सेना की 44 आरआर (राष्ट्रीय राइफल्स) व सीआरपीएफ की 14वीं वाहिनी के जवानों के साथ विशेष अभियान चलाया।

सुरक्षाबलों को सूचना मिली कि गांव में पाकिस्तानी आतंकियों के साथ एक स्थानीय आतंकी भी छिपा हुआ है। स्थानीय आतंकी का नात तनवीर होने की बात कही जा रही है। बताया जाता है कि ये आतंकी मोहम्मद याकूब के घर में छिपे थे जो कि सरकारी कर्मचारी हैं। जवानों ने आतंकियों की घेराबंदी शुरू की तो आतंकी समर्थक नारेबाजी करते हुए घरों से बाहर निकल आए। स्थानीय मस्जिदों से भी एलान होने लगे और कुछ ही देर में आतंकी समर्थकों ने सुरक्षाबलों पर पथराव करते हुए घेराबंदी तोड़कर आतंकियों को भगाने का प्रयास किया, लेकिन सुरक्षाबलों ने पथराव को झेलते हुए घेराबंदी जारी रखी।

इस दौरान आतंकियों ने घेराबंदी तोड़ने के लिए जवानों पर फायरिंग की, जिसमें एक जवान जख्मी हो गया, लेकिन अन्य जवानों ने तुंरत जवाबी कार्रवाई करते हुए आतंकियों के भागने के इरादे को नाकाम बना दिया। इस बीच, पुलिस ने पथराव कर रही भीड़ को खदेड़ने के लिए लाठियों के साथ-साथ आंसूगैस का भी इस्तेमाल किया। इसके साथ ही बटमुरन में एक तरफ सुरक्षाबल आतंकियों की गोलियों का जवाब दे रहे थे, दूसरी तरफ पुलिस और आतंकी समर्थक भीड़ में हिसक झड़पों का दौर चल रहा था।

रात साढ़े नौ बजे आतंकी ठिकाना बने मकान में एक जोरदार धमाका हुआ और वहां आग लग गई। आग की लपटों से बचने के लिए आतंकी कथित तौर पर अंधाधुंध फायरिंग करते हुए बाहर निकलने लगे तो जवानों की गोली का शिकार होकर मारे गए, लेकिन तब तक मकान का एक हिस्सा भी नीचे गिर पड़ा। आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार बंद होने के बाद जब जवानों ने मुठभेड़स्थल पर मारे गए आतंकियों के शवों की तलाश शुरू की तो जिंदा बचे आतंकी (इनकी संख्या एक से दो तक हो सकती है) फायर करने लगे। जवानों ने भी जवाबी फायर किया। मुठभेड़स्थल पर मौजूद एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि आतंकियों के मारे जाने और पहचान की पुष्टि उनके शव बरामद होने के बाद ही की जा सकती है।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF