ED ने की कांग्रेस नेता अहमद पटेल से पूछताछ

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 28-06-2020 / 7:52 AM
  • Update Date: 28-06-2020 / 7:52 AM

नई दिल्ली। संदेसरा ग्रुप के खिलाफ 5000 करोड़ रुपये के घोटाले की जांच कर रही ED कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के घर पहुंची। गुजरात की फार्मा कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक पर चल रहे लोन घोटाला के मामले के सिलसिले में ईडी ने मनी लॉड्रिंग का केस दर्ज किया था। उसी मामले में आज ईडी कांग्रेस नेता अहमद पटेल से पूछताछ कर रही है।

प्रमोटर्स संदेसरा बंधुओं से अहमद पटेल परिवार के संबंधों की जांच चल रही है। जांच एजेंसी ने अहमद पटेल के दामाद और बेटे के बाद खुद पटेल पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम ने पहले बेटे और दामाद से पूछताछ की है।

केंद्रीय जांच एजेंसियां लोन घोटाला करने वाली गुजराती की फॉर्मा सेक्टर की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक के संचालकों से अहमद पटेल के बेटे और दामाद के संबंधों की जांच कर रही हैं। अहमद पटेल के बेटे फैसल पटेल के बयान को मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत ईडी ने दर्ज किया था आरोप है कि बेटे फैसल और दामाद इरफान सिद्दीकी ने स्टर्लिंग बायोटेक घोटाले की धनराशि का इस्तेमाल मनी लॉन्ड्रिंग में किया था।

मोदी और शाह मेहमान आए थे

वहीं, ED के पूछताछ करके जाने के बाद अहमद पटेल ने मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी और शाह के मेहमान आए थे। उन्होंने सवाल पूछा और मैंने जवाब दिया। इसके बाद वो चले गए। अहमद पटेल ने कहा कि मोदी और शाह मेहमान आए थे। उन्होंने सवाल पूछे, मैंने जवाब दिए फिर वे चले गए। यह समय चीन से अपनी जमीन वापस लेने की है। उनके खिलाफ लड़ने की बजाय विपक्ष से लड़ रहे हैं। कोरोना से लोग परेशान हैं। बेरोजगारी, गरीबी के खिलाफ लड़ना चाहिए लेकिन विपक्ष से लड़ रहे हैं।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि जो सत्ता में हैं उन्हें सत्ता पच नहीं रही। जब मैंने कुछ गलत नहीं किया तो डरने की कोई बात नहीं। जितनी जांच करनी है कर लें। कानून को अपना काम करना चाहिए। लेकिन जिनके खुद के घर शीशे के होते हैं उन्हें याद रखना चाहिए कि उनके घर पर भी कोई पत्थर फेंक सकता है। अहमद पटेल ने कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार जब किसी संकट में होती है तब वह इसी तरह से जांच एजेंसियों का इस्तेमाल करती है, ताकि विमर्श को बदला जा सके।

उन्होंने एक बयान में कहा कि अगर आप विश्लेषण करेंगे तो पता चलेगा कि जब कभी कोई चुनाव आता है या सरकार के सामने कोई संकट होता है तब जांच एजेंसियों सक्रिय हो जाती हैं। पटेल ने दावा किया, दुर्भाग्यपूर्ण है कि अर्थव्यवस्था, स्वास्थ्य और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े संकट से निपटने में मोदी सरकार की विफलता इतनी बड़ी है कि कोई भी एजेंसी विमर्श बदलने में मददगार नहीं हो सकती।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF