आरबीआई के इस नियम से मुसीबत में फंसे डेबिट-क्रेडिट कार्ड धारक

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-10-2018 / 1:57 PM
  • Update Date: 11-10-2018 / 1:57 PM

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पिछले दिनों कार्ड जारी करने वाली विदेशी कंपनियों के लिए एक नियम जारी किया था, जिसके लिए उन्हें 6 महीने का वक्त दिया गया था। यह समय सीमा 15 अक्तूबर को समाप्त हो रही है। जिस कारण इस फेस्टिव सीजन में 90 करोड़ से अधिक डेबिट व क्रेडिट कार्ड धारकों का कार्ड बंद हो सकता है।

देश में ज्यादातर बैंक अपने ग्राहकों को मास्टरकार्ड या फिर वीजा का डेबिट-क्रेडिट कार्ड जारी करते हैं। आरबीआई ने इन विदेशी पेमेंट गेटवे कंपनियों को देश में अपना सर्वर लगाने के लिए 15 अक्तूबर तक की मोहलत दी थी। इन कंपनियों के प्रतिनिधियों ने सरकार के समक्ष अपना पक्ष रखा था और समय सीमा आगे बढ़ाने का आग्रह किया था।

कंपनियों की दलील है कि डेटा स्टोर करने में करीब 2 साल का वक्त लगेगा। कंपनियों को केवल डेटा स्टोर के बजाय कॉपी रखने की भी छूट की मांग की है। आरबीआई का फैसला आने के बाद आगामी फेस्टिव सीजन के फीका रहने की आशंका है। अधिकतर लोग अब कार्ड के जरिए ही खरीदारी करते हैं। भारत ने भी अपना रूपे डेबिट क्रेडिट कार्ड जारी करना शुरू कर दिया है। लेकिन ऐसे लोगों की संख्या काफी कम है, जिनके पास रूपे कार्ड है।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF