पुडुचेरी में गिरी कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने दिया इस्तीफा

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 22-02-2021 / 7:29 PM
  • Update Date: 22-02-2021 / 7:29 PM

नई दिल्ली। कांग्रेस के हाथ से एक और राज्य की सत्ता निकल गई है। सोमवार को विधानसभा में बहुमत साबित नहीं कर पाने के चलते पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने इस्तीफा दे दिया है। पुडुचेरी में सोमवार को हुए फ्लोर टेस्ट में मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी बहुमत जुटाने में नाकाम रहे।

पुडुचेरी की कांग्रेस शासित सरकार सोमवार को कमल नाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार के पिछले साल मार्च में 365 दिनों के भीतर गिर जाने के बाद एक साल के अंदर गिरने वाली दूसरी सरकार बन गई। कर्नाटक की गठबंधन सरकार को भी गिन लिया जाए तो इस तरह से गिरने वाली यह तीसरी सरकार है।

कर्नाटक की गठबंधन सरकार को कांग्रेस का समर्थन प्राप्त था। कांग्रेस अब सिर्फ तीन राज्यों- पंजाब, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सिमट कर रह गई है। वहीं, झारखंड और महाराष्ट्र में ये गठबंधन में है।

कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि पुडुचेरी सरकार का पतन उनकी चुनावी संभावनाओं को बढ़ाएगा, क्योंकि यह नारायणसामी सरकार की एंटी-इंकम्बेंसी को नकार देगा और राज्य में कांग्रेस को मजबूत करेगा। पुडुचेरी के निवर्तमान मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करने से ठीक पहले अपनी कांग्रेस नीत सरकार के पतन के बाद इस्तीफा दे दिया।

फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा को संबोधित करते हुए नारायणसामी ने आरोप लगाया कि बीजेपी भारत की लोकतांत्रिक प्रणाली को पटरी से उतार रही है। उन्होंने कहा कि अब पुडुचेरी में जो हो रहा है वह राजनीतिक वेश्यावृत्ति है, लेकिन सच्चाई की जीत होगी। उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व उपराज्यपाल किरण बेदी और केंद्र ने विपक्ष के साथ मिलकर उनकी सरकार को अस्थिर कर दिया।

नारायणसामी ने सरकार गिराने के लिए विपक्ष के साथ मिलीभगत के लिए केंद्र सरकार को फटकार लगाई। तीन मनोनीत विधायकों के मतदान के अधिकार पर बहस के बाद मुख्यमंत्री और उनके विधायक सदन से बाहर चले गए। कांग्रेस नेता और पूर्व महासचिव बीके हरिप्रसाद ने कहा कि बीजेपी उन सरकारों को नीचे गिराती है, जहां उसे चुनाव के माध्यम से बहुमत नहीं मिलता।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF